केन्द्रीय मंत्री एमजे अकबर और अभिनेता आलोक नाथ पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोप

साभार: विकिपीडिया

देश में #metoo (मैं भी) कैंपेन के जोर पकड़ते ही कई नामी-गिरामी चेहरे कठघरे में खड़े हो गए हैं। ताजा नाम मौजूदा विदेश मंत्री राज्य मंत्री एम जे अकबर और आलोक नाथ का है। एम जे अकबर कई अखबारों और पत्रिकाओं के संपादक रह चुके हैं। जबकि आलेक नाथ बॉलीवुड अभिनेता हैं जो संस्कारी बाबूजी के नाम से चर्चित हैं।

अकबर पर होटल के कमरों में महिलाओं से असहज करने वाले इंटरव्यू करने के आरोप लगाए गए हैं। इस बारे में प्रिया रमानी नाम की महिला ने ट्वीट किया है कि अकबर ने होटल रूम में इंटरव्यू के दौरान कई महिला पत्रकारों के साथ आपत्तिजनक हरकतें की हैं। वह उस वक्त सीनियर पत्रकार थी और अकबर ने कई बार होटल रूम्स में इंटरव्यू करते और महिलाओं को बिस्तर और शराब की पेशकश की थी।

वहीं, आलोक नाथ पर फिल्मकार विंटा नंदा ने यौन शोषण का आरोप लगाया है। विंटा ने एक फेसबुक पोस्ट के जरिए पूरे मामले को खुलकर पब्लिक में सामने रखा है। विंटा ने बिना आलोक नाथ का नाम लिए लिखा, “उन्होंने मेरे साथ शारीरिक दुर्व्यवहार किया, जब मैं साल 1994 के मशहूर शो ‘तारा’ के लिए काम कर रही थी।”

इस मामले में आलोक नाथ का बयान भी सामने आ गया है। आलोक नाथ ने एक न्यूज चैनल से बात करते हुए कहा कि आज के जमाने में अगर कोई महिला किसी पुरुष पर आरोप लगाती है तो पुरुष का इस पर कुछ भी कहना मायने नहीं रखता।

बहरहाल, तनुश्री दत्ता मामले के बाद कई महिलाओं ने अपने खिलाफ हुए शोषण पर खुलकर आवाज उठानी शुरू कर दी है, जिसे #metoo अभियान की कामयाबी कहा जा रहा है।