खबर लहरिया Blog ट्रम्प को हरा 46 वें राष्ट्रपति बने जो बाइडेन, कमला हैरिस बनी पहली अश्वेत महिला उपराष्ट्रपति, मगर ट्रम्प को हार स्वीकार नहीं

ट्रम्प को हरा 46 वें राष्ट्रपति बने जो बाइडेन, कमला हैरिस बनी पहली अश्वेत महिला उपराष्ट्रपति, मगर ट्रम्प को हार स्वीकार नहीं

biden becoms 46 president of america

7 नवंबर 2020 को अमेरिका के नए राष्ट्रपति बनने के साथसाथ जो बाइडेन ने उसके अगले ही दिन रविवार से वाइट हाउस को सँभालने के लिए अपना पहला कदम बढ़ा लिया है।अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी के जो बाइडेन ने रिपब्लिक पार्टी के उम्मीदवार और पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को कड़ी मात देते हुए हरा दिया। बाइडेन अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति बने है। इसके साथ ही भारतीय मूल की कमला हैरिस अमेरिका की उपराष्ट्रपति के रूप में चुनी गयी। कमला हैरिस पहली महिला, पहली अश्वेत महिला, पहली भारतीयअमेरिकी महिला और प्रवासी महिला है, जिसने उपराष्ट्रपति की शपथ ली है।

कमला हैरिस ने ट्वीट करते हुए कहा कि मैं इस ऑफिस में पहली महिला हूँ, पर आखिरी नहीं रहूंगीक्यूंकि हर एक बच्ची जो आज ये देख रही है , उसे पता चलेगा की यह देश मौकों से भरा हुआ है 

नए राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा  अमेरिका, मैं खुश हूं कि आपने मुझे हमारे महान देश का नेतृत्व करने के लिए चुना है। हमारे आगे का काम कठिन होगा, लेकिन मैं आपसे यह वादा करता हूँ कि मैं सभी अमेरिकियों के लिए राष्ट्रपति बनूंगाचाहे आपने मुझे वोट दिया हो या नहीं। आप ने मुझ पर जो विश्वास रखा है, मैं उस पर कायम रहूंगा

चुनाव के यह रहे नतीजे

अमेरिकी चुनाव जीतने के लिए कम से कम 270 या इससे ज़्यादा इलेक्टोरल कॉलेज वोट की ज़रुरत होती है। जिसमें डेमोक्रेटिक पार्टी के जो बाइडेन को 290 इलेक्टोरल कॉलेज वोट मिलें। वहीं अमेरिका के राष्ट्रपति रह चुके डोनाल्ड ट्रम्प को सिर्फ 214 इलेक्टोरल कॉलेज वोट ही मिले। दोनों के बीच हार और जीत की बहुत बड़ी दूरी थी। जिससे यह साफ़ पता चल गया कि अमेरिका की जनता किसे अपने राष्ट्रपति के रूप में देखना चाह रही थी।

ट्रम्प ने चुनावी नतीजों को मानने से किया इंकार

biden becoms 46 president of america

एक तरफ जो बाइडेन के नए राष्ट्रपति बनने पर दुनियाभर के तमाम नेताओं और समर्थकों द्वारा उन्हें ढेर सारी शुभकामनाएं दी जा रही है। वहीं दूसरी तरफ ट्रम्प अपनी हार को स्वीकारने के लिए तैयार ही नहीं है। साथ ही वह लगातार चुनावी नतीजों को लेकर सवाल उठा रहे हैं। ट्रम्प का कहना है कि ईवीएम मशीन में कुछ गड़बड़ी की गयी है। साथ ही महत्ववपूर्ण राज्यों में हुई मतगणना की वैधता को लेकर भी ट्रम्प चुनावी नतीजों में धोखाधड़ी का आरोप लगा रहे हैं।  जबकि ट्रम्प के पास इस बात का कोई सबूत नहीं है। वहीं ट्रम्प के रिपब्लिक पार्टी के नेता इस मुद्दे पर चुप्पी साधे हुए हैं।

रविवार सुबह ट्रंप ने किये कई ट्वीट

डोनाल्ड ट्रंप ने अपने ट्वीट में कहा, ‘‘हमारा मानना है कि वे लोग चोर हैं। मशीनों में गड़बड़ी की गई है। चुनाव में धोखाधड़ी हुई। ब्रिटेन के सर्वश्रेष्ठ मतदान सर्वेक्षक ने आज सुबह लिखा कि चुनाव में निश्चित ही धोखाधड़ी हुई। यह कल्पना करना भी नामुमकिन है कि बाइडेन ने इनमें से कुछ राज्यों में ओबामा को भी पीछे छोड़ दिया। 

https://twitter.com/realDonaldTrump/status/1325442336957018112?s=20

हमें वोटों को देखना चाहिए। हम अभी सारणीकरण चरण की शुरुआत कर रहे हैं। हमें इन आरोपों पर गौर करना चाहिए। हम कई शपथपत्र और मतदाता देखें हैं जो झूठे थे। इस देश में चुनावी समस्याओं को लेकर इतिहास रह चुका है

https://twitter.com/realDonaldTrump/status/1325432465415163904?s=20

हालांकि, ट्रंप ने अभी हार नहीं मानी है उसका कहना कि आधिकारिक रूप से प्रमाणित मतगणना की घोषणा अभी तक नहीं की गई है।

पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश ने चुनाव को लेकर  यह कहा  

अमेरिक के पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश ने कहा किपरिणाम स्पष्ट हैं.उन्होंने बाइडेन को निर्वाचित राष्ट्रपति कहते हुए कमला हैरिस और उन्हें शुभकामनाएं दी है वहीं ट्रम्प द्वारा चुनावी नतीजों पर सवाल उठाने को लेकर  जॉर्ज डब्ल्यू बुश का कहना है कि  “ट्रंप के पास दोबारा गिनती कराने का अनुरोध करने और इसे कानूनी रूप से चुनौती देने का अधिकार है। अमेरिकी लोगों को भरोसा है कि यह चुनाव बुनियादी रूप से निष्पक्ष था और इसकी अखंडता को बरकरार रखा जाएगा तथा इसका परिणाम स्पष्ट है बुश ने अपने बयान में यह भी कहा, हमारे बीच राजनीतिक मतभेद हैं, लेकिन मैं जानता हूं कि जो बाइडेन एक अच्छा इंसान हैं, जिन्हें देश का नेतृत्व करने और उसे एकजुट करने का मौका मिला है. हमें अपने परिवार तथा पड़ोसियों के खातिर और हमारे राष्ट्र एवं उसके भविष्य के लिए एक साथ आना चाहिए

राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के नियुक्ति के बाद ही शुरू की बदलाव की प्रक्रिया

जो बाइडेन और कमला हैरिस ने वक़्त गवाते हुए बदलाव के प्रक्रिया में एक वेबसाइट बिल्डबैकबेटर.कॉम (BuildBackBetter.com) और ट्विटर फीड @ट्रांजीशन46  (@Transition46) की शुरुआत की है। वेबसाइट में चार मुद्दों को महत्व दिया गया है। जिसमें कोविड, आर्थिक सुधार, नस्लीय समानता और जलवायु परिवर्तन शामिल हैं। इन सब चुनौतियों से निपटने का काम जो बाइडेन द्वारा राष्ट्रपति के पदभार संभालने के बाद किया जायेगा।  एक तरफ ट्रम्प हार मानने को तैयार नहीं। वहीं दूसरी तरफ राष्ट्रपति जो बाइडेन और उपराष्ट्रपति कमला हैरिस के नेतृत्व में अमेरिका नई लहर में बहने को तैयार हो चुका है।