खबर लहरिया Blog Pink Parks: दिल्ली में महिलाओं के लिए बनाये जायेंगे ‘गुलाबी पार्क’, पुरुषों पर होगी रोक

Pink Parks: दिल्ली में महिलाओं के लिए बनाये जायेंगे ‘गुलाबी पार्क’, पुरुषों पर होगी रोक

पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर माता सुंदरी रोड पर एक ‘पिंक पार्क’ बनाया गया है और पार्कों में आने वाली महिलाओं के साथ 10 साल तक के बच्चे भी जा सकते हैं।

महिलाओं के आराम हेतु दिल्ली में पिंक पार्क बनाये जायेंगे ( फोटो – फूलों का बगीचा जिसमें पीला, बैंगनी, लाल, संतरी व कई रंगो के फूल खिले हुए हैं, यह बगीचे की एक सांकेतिक फोटो है।)

दिल्ली में “पिंक पार्क” (Pink Parks) को स्थापित करने का काम शुरू हो गया है। यह पार्क दिल्ली के एमसीडी वार्डों (आम आदमी पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार के अंतर्गत) में बनाये जाएंगे। दिल्ली के डिप्टी मेयर अली मोहम्मद इकबाल ( Deputy Mayor Aaley Mohammad Iqbal) ने इस बारे में बताया। उन्होंने कहा कि यह पार्क सिर्फ महिलाओं के लिए होगा। वहीं इस पार्क में पुरुष प्रवेश नहीं कर पाएंगे।

परियोजना के बारे में बात करते हुए आप पार्टी के पार्षद इकबाल ने कहा, महिलाओं को अन्य सुविधाएं प्रदान करने के साथ-साथ उन्हें “अधिक आरामदायक स्थान” देने को लेकर उनका विचार है।

 ये भी देखें – सीएम योगी का 4 महीने के अंदर पानी पहुँचाने का वादा क्या हो पाएगा पूरा? | द कविता शो

पिंक पार्क को लेकर सीएम के सामने रखा था सुझाव

आप पार्टी के पार्षद इकबाल ने पीटीआई को बताया, ‘हाल ही में, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ एक बैठक में, मैंने पुरानी दिल्ली में अपने वार्ड (चांदनी महल) में एक ‘गुलाबी पार्क’ का उदाहरण दिया था और यह सुझाव भी दिया था कि इस तरह के पार्क सभी वार्डों में स्थापित किए जा सकते हैं।’

आगे कहा, “मेरा विचार मुख्यमंत्री के साथ प्रतिध्वनित हुआ और बाद में, नागरिक निकाय के बागवानी विभाग (civic body’s Horticulture department) की एक बैठक में, मैंने प्रस्ताव दिया कि प्रत्येक वार्ड में कम से कम एक ऐसा पार्क होना चाहिए।” दिल्ली नगर निगम (MCD) के अधिकार क्षेत्र में 250 वार्ड हैं।”

इस रोड पर है पिंक पार्क

रिपोर्ट्स के अनुसार, आप पार्षद इकबाल ने कहा कि पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर माता सुंदरी रोड पर एक ‘पिंक पार्क’ बनाया गया है और पार्कों में आने वाली महिलाओं के साथ 10 साल तक के बच्चे भी जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि यही मॉडल अन्य वार्डों में भी अपनाया जाएगा।

गुलाबी पार्क में होंगी ये सुविधाएं

बता दें, एमसीडी के तहत बनाये जाने वाले सभी ‘गुलाबी पार्कों’ में शौचालय, सीसीटीवी कैमरे, जिम की सुविधा और दीवारों पर ग्राफिटी होगी ताकि महिलाओं को एक आरामदायक स्थान मिल सके।

दिल्ली के डिप्टी मेयर ने कहा कि पार्षद अपने-अपने वार्डों में एक पार्क को ‘गुलाबी पार्क’ में बदलने के लिए चिन्हित करेंगे।

पीटीआई को आप पार्षद इकबाल ने बताया, “कई पार्षदों को कहा गया है कि वे पहले से ही अपने वार्डों में जगहों की तलाश करें। यह पहल सार्वजनिक पार्कों में महिलाओं के लिए बेहतर और सुरक्षित स्थान प्रदान करने के लिए है और मुझे उम्मीद है कि अन्य पार्टियों के पार्षद भी इस लक्ष्य को प्राप्त करने में साथ देंगे।”

एमसीडी क्षेत्र में 15 हज़ार पार्क

फर्स्ट पोस्ट की प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार, एमसीडी के अधिकार क्षेत्र में करीब 15,000 पार्क हैं। इनमें कुछ ऐतिहासिक पार्क भी है जिसमें सुभाष पार्क (जिसे एक सदी पहले एडवर्ड पार्क के नाम से स्थापित किया गया था व आज़ादी के बाद इस पार्क का नाम बदल दिया गया), रोशनारा बाग, कुदसिया बाग व कई अन्य पार्क।

दिल्ली में है कई ऐतिहासिक पार्क

आप पार्टी के पार्षद इकबाल ने कहा कि सिर्फ महिलाओं के लिए बने पार्क की अवधारणा दिल्ली के लिए नई नहीं है क्योंकि ज़ेनाना पार्क (Zenana Park) व पर्दा बाग (Parda Bagh) औपनिवेशिक काल से ही अस्तित्व में थे।

आगे कहा, “परदा बाग दरियागंज क्षेत्र में एक ऐतिहासिक पार्क है और हम अपने ऐतिहासिक पार्कों की बेहतरी के लिए भी काम करेंगे।”

ये भी देखें – गया : भेड़ चरवाहों का जंगल में कैसे बीतता है जीवन?

 

‘यदि आप हमको सपोर्ट करना चाहते है तो हमारी ग्रामीण नारीवादी स्वतंत्र पत्रकारिता का समर्थन करें और हमारे प्रोडक्ट KL हटके का सब्सक्रिप्शन लें’

If you want to support  our rural fearless feminist Journalism, subscribe to our premium product KL Hatke

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *