खबर लहरिया क्राइम मध्य प्रदेश: गर्भवती महिला के साथ दुर्व्यवहार, कंधे पर युवक को बैठा कर मीलों पैदल चलवाया

मध्य प्रदेश: गर्भवती महिला के साथ दुर्व्यवहार, कंधे पर युवक को बैठा कर मीलों पैदल चलवाया

मध्य प्रदेश के गुना ज़िले में एक गर्भवती महिला के साथ दुर्व्यवहार की घटना सामने आई है। इस गर्भवती महिला के कंधे पर एक लड़के को बैठाकर, उसके साथ मारपीट करते हुए, उसे पूरे गाँव में चलवाया गया, और इस घटना को उसके ससुराल वालों ने अंजाम दिया है। 

सोशल मीडिया पर एमपी के गुना जिला का ये वीडियो ज़ोरोशोर से वायरल हो रहा है। जिसके बाद आसपास के कई छेत्रों में हड़कंप मच गया है। इस वीडियो में दिखाई जा रही महिला दगड़फला गाँव की है जिसकी शादी बांसखेड़ी गाँव में हुई थी। वीडियो में हम देख सकते हैं कि कैसे उसके जेठ और ससुर उस गर्भवती महिला को पीटते हुए पथरीले रास्ते के ऊपर से लेकर जा रहे हैं।

और महिला को और तकलीफ देने के लिए, उसके कंधे पर गाँव के एक लड़के को बैठा रखा है। जैसे-जैसे वो महिला चल रही थी, आसपास दर्शक बने लोग उसे पत्थर और बल्ले से मारते दिख रहे हैं और वीडियो बना रहे हैं।  

विवाहित है महिला-

गर्भवती महिला का कहना है कि वो शादीशुदा है और शादी से पहले दगड़फला गाँव में रहती थी। शादी के बाद वो अपने पति सीताराम के साथ बांसखेड़ी गाँव में रहने लगी। पीड़ित महिला ने बताया कि 2 महीने पहले उसके पति उसे सांगई गाँव में डेमा नाम के युवक के घर छोड़ कर इंदौर चले गए थे। पीड़िता ने यह भी बताया कि जाते समय उसके पति ने कहा कि वो दोनों अब एक साथ नहीं रह सकते हैं और उसकी पत्नी को अब डेमा के साथ ही रहना होगा। 

पिछले 2 महीने से ये महिला और डेमा एक साथ पति-पत्नी के रूप में ही रह रहे थे। उसका कहना है कि वो अपने पहले पति की मर्ज़ी से यहाँ सांगई गाँव में रह रही थी जिसके बारे में शायद उसके पहले ससुराल वालों को नहीं पता था। बीती 9 फरवरी को एकदम से उसके पुराने ससुराल वालों ने गाँव में हल्ला बोल दिया और उसके घर में घुंस आए। 

रास्ते भर करते गए पिटाई-

महिला ने बताया कि उसके ससुर गुनजरिया वारेला, जेठ कुमार सिंह, केपी सिंह और रतन घर में घुंसे और महिला से घर चलने के लिए कहने लगे। जब उसने मना किया तो वे उसे पीटने लग गए। इसके बाद उन लोगों ने महिला को घर के बाहर निकालकर, उसके कंधे पर गाँव के एक युवक को बैठा दिया और सांगई से बांसखेड़ी की तीन किलोमीटर की दूरी नंगे पैर तय करने को कहा। पीड़िता के मना करने पर उन सब ने उसे और मारा और ऊबड़-खाबड़ रास्ते पर चलवाते हुए घर वापस ले गए। 

गर्भवती महिला ने बताया कि इसी दौरान उसके पहले पति का फ़ोन भी आया, और उसने ससुराल वालों को उसे छोड़ देने को कहा, लेकिन ससुर और जेठ ने उसकी एक नहीं सुनी।

वीडियो वायरल होने के बाद हरकत में आयी पुलिस – 

गर्भवती महिला से बदसलूकी की ये वारदात 9 फरवरी की है और पुलिस ने इसके ऊपर कार्यवाही 15 फरवरी से शुरू की। जब ये वीडियो इंटरनेट पर वाइरल होना शुरू हुआ, तब गुना ज़िले की पुलिस ने इस मामले की तहकीकात करना शुरू की। अब तक पुलिस इस मामले में 4 लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर चुकी है जिनमें से 3 लोगों (ससुर, और दो जेठ) को गिरफ्तार भी कर लिया गया है।  पुलिस ने चारों आरोपियों के खिलाफ मारपीट, गाली गलौच, जान से मारने की धमकी देने के आरोप में मामला दर्ज किया है।  

गुना के एसपी राजीव मिश्रा का कहना है कि यह घटना 9 फरवरी की है। और 10 फरवरी को गुना में उनकी नयी तैनाती हुई है।  जिसके कारण वो घटना के बारे में ज़्यादा नहीं जानते थे और जब ये वीडियो वाइरल हुआ तभी उन्हें पता चला। उन्होंने बताया कि अभी कार्रवाही चल रही है और वो चाहते हैं की पीड़ित महिला को जल्द से जल्द इन्साफ मिले।

आपको बता दें कि भारत में अभी भी ऐसे कई छेत्र हैं जहाँ ऐसी रूढ़िवादी परम्पराओं को माना जाता है और बढ़ावा दिया जाता है जिसके कारण महिलाओं को दुष्कर्म एवं अभद्र व्यवहार का शिकार बनना पड़ता है। हमें ज़रुरत है कि हम ऐसी मानसिकता के लोगों की निंदा करें कि इन घटनाओं पर हंस कर या सोशल मीडिया पर शेयर कर उन्हें और बढ़ावा दें।

महिला से दुर्व्यवहार की वीडियो आप यहाँ देख सकते हैं-

इस खबर को खबर लहरिया के लिए फ़ाएज़ा हाशमी द्वारा लिखा गया है।