खबर लहरिया खाना खज़ाना हमीरपुर : केवांच की सब्जी बनाने का देसी तरीका

हमीरपुर : केवांच की सब्जी बनाने का देसी तरीका

हमीरपुर जिले के मुस्कुरा ब्लाक के अंतर्गत आने वाले गांव जल्ला मैं देखने को मिली अनोखी सब्जी जो कि इमली की तरह दिखती है और बनती है सेम कि तरह।

Hamirpur news, Learn the indigenous way of making Kewanch vegetable

                               केवांच की सब्ज़ी बनाते हुए महिला ( फोटो – खबर लहरिया )

महिला ने बताया कि इसका नाम केवांच है यहां पर हर व्यक्ति जानता है और यह ठंड में ही पैदा होती है इसका रंग हरा होता है और इसका बनावट इमली की तरह होता है लेकिन यह सेम की प्रजाति होती है जिसमें से यह भी है । यह मार्केट में नहीं बिकती यह जंगलों में उगती है यहां के लोगों को इसकी सब्जी पसंद करते है। तो इसलिए लोग जंगलों से इसके बीज ले आते हैं और अपने घरों में लगा लेते हैं और आज कल जब पैदा होती है तो इसको बनाकर दाल के साथ खाते हैं।

ये भी देखें – लखीमपुर खीरी : ‘धरती का फूल’ के नाम से जानी जाती है ये अनोखी सब्ज़ी

Hamirpur news, Learn the indigenous way of making Kewanch vegetable

                                       केवांच की सब्ज़ी ( फोटो – खबर लहरिया )

केवांच कई तरीके से बना सकते हैं, बेसन के साथ भी इसकी पकौड़ी निकाल सकते हैं।बनाने का तरीका थोड़ा थोड़ा अलग है इसमें हर तरह का मसाला पड़ता है और हरे धनिया, टमाटर ,अदरक, लहसुन और प्याज यह सारी चीजें भी डाली जाती हैं और गरम मसाले का तो अलग ही असर आता है । इसको जब बेसन के साथ बनाते हैं तो इसका स्वाद ही अलग होता है इसके कोफ्ते भी बनते हैं इसको ठंड में ही खाना चाहिए क्योंकि यह सब्जी गर्म होते हैं और ठंड को मारती है। इसको खाने के बाद शरीर के अंदर गर्मी आ जाती है ठंड से बचाव के लिए वहां के लोग इस सब्जी का उपयोग करते हैं।

ये भी देखें – टेढ़ी-मेढ़ी दिखने वाली ‘सूरन’ की सब्ज़ी के हैं अनेक लाभ, बीमारियों को दूर रखने की है क्षमता

 

‘यदि आप हमको सपोर्ट करना चाहते है तो हमारी ग्रामीण नारीवादी स्वतंत्र पत्रकारिता का समर्थन करें और हमारे प्रोडक्ट KL हटके का सब्सक्रिप्शन लें’

If you want to support our rural fearless feminist Journalism, subscribe to our  premium product KL Hatke

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *