खबर लहरिया ताजा खबरें बिहार के पारम्परिक मशहूर खाने की झलक

बिहार के पारम्परिक मशहूर खाने की झलक

हैलो दोस्तों कैसे हैं आप सब ? मुझे उम्मीद है कि आप सब ठीक होंगे और सुरक्षित होंगे l जैसा कि आप सभी जानते ही है की हर एपिसोड में मैं लेकर आती हूँ भोजपुरी के पॉपुलर ऐक्टर्ज़ की कुछ खट्टी मीठी बातें लेकिन इस बार का एपिसोड थोड़ा अलग होने वाला है। आज हम बात करेंगे बिहार के कुछ फेमस खाने की डिशेज़ के बारे में।

जी हाँ अगर हम बात करे बिहार में बनाये जाने वाले बिहारी खाना के बारे में तो बिहार में खानों का खजाना है जो खानों के नाम सुनते ही मुँह में पानी आ जाता है तो चलिए जानते हैं बिहार के कौन कौन से पकवान देश भर में फ़ेमस हैं।

5 पांचवे नंबर पर है पिट्टा, यह देखने में बिलकुल मोमोज़ जैसा होता है और स्वाद में यह मीठा या नमकीन हो सकता है। इसको चने की दाल भर कर पानी में उबाल कर बनाया जाता है l यह पिट्टा तो बिहरा का पारम्परिक डिश है जिसे उत्तर प्रदेश में पनडुब्बी और फरा के नाम से जाना जाता है।

4 चौथे नंबर पर है खिचड़ी। आपको बता दें कि बिहार में हर शनिवार को हर घर में दाल की खिचड़ी बनाने की परम्परा है जो की आज भी कायम है। इसमें कई तरह की सब्जी और दाल डालकर घी का तड़का लगा कर बनाया जाता है।
खिचड़ी की सबसे ख़ास बात यह है कि यह बहुत कम समय में झटपट बन कर तैयार हो जाती है।

3 तीसरे नंबर पर है चने की दाल की कढ़ी। अधिकतर लोग अपने घरों में बेसन की कढ़ी बनाते है, बिहार में बेसन की कढ़ी के साथ चने की दाल को पीस कर दही में मिला कर बनाते हैं। और फिर इसे चावल के साथ परोसा जाता है। इसको खाने में अलग ही स्वाद आता है।तो आप भी इसे बना कर ट्राई कर सकते हैं।

2 दूसरे नंबर पर है बैंगन का भरता। इसे बिहार में लिट्टी के साथ तो बनाते ही हैं खाने के लिए लेकिन इसे अन्य दिनों में भी बनाया जाता है। यह आमतौर पर उत्तर-पश्चिमी बिहार के भोजपुरी बोलने वाले इलाके में खाया जाता है। बैंगन का भरता खाने में बहुत स्वादिष्ट होता है।

1 पहले नंबर पर है बिहार का फेमस लिट्टी। बिहारी भोजन के रूप में लिट्टी-चोखा को वैश्विक पहचान मिली है। आपको बता दें कि यह बिहार में खाया जाने वाली पारम्परिक भोजन है। इसको भुना हुआ सत्तू और मसाले भर कर बनाया जाता है, इसे बैगन के चोखे या घी के साथ खाया जाता है।

ये भी देखें :

वाराणसी की मशहूर नान खटाई

 

 

(हैलो दोस्तों! हमारे  Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)