खबर लहरिया जिला “लड़कियां फ़ोन चलाएंगी तो बिगड़ जाएँगी!” बोलेंगे बुलवाएंगे हंस के सब कह जायेंगे

“लड़कियां फ़ोन चलाएंगी तो बिगड़ जाएँगी!” बोलेंगे बुलवाएंगे हंस के सब कह जायेंगे

हमेशा से महिलाओं को रूढ़ीवादी सोच के साथ बांध कर रखा गया है। रूढ़ीवाद की वजह से महिलाएं हिंसा का शिकार होती रहीं हैं। हर चीज में रोकना-टोकना भी समाज की आदत रही है। अगर इस सब को पीछे छोड़कर नारी जाति आगे बढ़ रही है तो उसे ट्रोलिंग का शिकार होना पड़ता है। तरह-तरह के अश्लील शब्द उसके लिए बोले जाते हैं। अब कहा तो जाता है कि महिला पुरुष बराबर हैं। शिक्षा का अधिकार बराबर है। हर चीज़ में महिलाओं के बराबरी और दर्जे की बात कही जाती है।

लेकिन फिर भी डिजिटल इंडिया के इस दौर में सिर्फ फोन चलाने में महिलाओं को ही क्यों रोका-टोका जाता है? क्यों उन्हें फोन चलाने में इतना ट्रोल होना पड़ता है? वहीं पूरूष अगर रात-दिन फोन चलाता है तो उसके लिए कोई सवाल नहीं होते।

ये भी देखें – बेटियों की शादी में जल्दी क्यों ? | बोलेंगे बुलवाएंगे शो

अगर लड़की, महिला फोन चलाती है तो उसके लिए गलत है, वो लड़की ही गलत हो जाती है। लड़की फोन चलाएगी तो भाग जाएगी। लड़कों से बातें करेगी।
कहीं गलती से असुरक्षित नम्बर उसके फोन में आ गया तो लड़की ने ही नम्बर दिया होगा। बहुत-सी बातें सुनना पड़ता है लड़की को। फोन देना बंद अगर फोन लड़की का है या तो उससे फोन ही छीन लिया जाता है।

लेकिन सोचने वाली बात तो ये है कि जब मोबाइल फोन हमें सुविधा, एंटरटेनमेंट, न्यूज़, देश और दुनिया में हो रही हर छोटी-बड़ी हलचल से रूबरू कराने में पक्षपात नहीं करता, तो हम क्यों लड़के-लड़कियों को मोबाइल का इस्तेमाल करने देने में भेदभाव करते हैं?

ये भी देखें – विधवा महिलाओं को शुभ कामों में क्यों नहीं किया जाता है शामिल ? बोलेंगे बुलवाएंगे शो

 

‘यदि आप हमको सपोर्ट करना चाहते है तो हमारी ग्रामीण नारीवादी स्वतंत्र पत्रकारिता का समर्थन करें और हमारे प्रोडक्ट KL हटके का सब्सक्रिप्शन लें’

If you want to support  our rural fearless feminist Journalism, subscribe to our  premium product KL Hatke

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *