सबसे कम उम्र के टेस्ट मैच में शतक लगाने वाले पृत्वी शॉ ने रचा इतिहास

साभार: ट्विटर

टेस्ट क्रिकेट में अपनी जोरदार शुरुआत करते हुए 18 वर्षीय पृथ्वी शॉ ने इतिहास रच दिया है। अपने पहले ही मैच में शतक जड़ते हुए इस युवा खिलाड़ी ने कई रिकॉर्ड अपने नाम कर लिए हैं। वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले टेस्ट में 33 ओवर की दूसरी गेंद में 2 रन लेते हुए अपना शतक पूरा किया।

शॉ ने अपनी पहली टेस्ट पारी का आगाज बेहद आक्रामक अंदाज में किया। उन्होंने अपनी शतकीय पारी में कुल 15 चौके लगाए। जिसके बाद उनकी तुलना सहवाग से भी हो रही है। आउट होने से पहले पृथ्वी शॉ ने 154 गेंदों में 134 रन बनाए।

18 साल के पृथ्वी शॉ ने केएल राहुल के साथ पारी की शुरुआत की। मगर राहुल के पहले ही ओवर में आउट हो जाने के बाद उन्होंने टीम को चेतेश्वर पुजारा के साथ मजबूत शुरुआत दिलाई। दूसरे विकेट के लिए पृथ्वी शॉपुजारा के बीच 179 रन की 206 रन की साझेदारी हुई। पुजारा 86 रन पर आउट हुए।

बता दें, पृथ्वी शॉ शुरूआती टेस्ट में सबसे तेज शतक लगाने के मामले में तीसरे नंबर पर हैं। पहला नंबर शिखर धवन का है जिन्होंने 85 गेंदों में डेब्यू शतक ठोका था।

वहीं वेस्टइंडीज के बल्लेबाज ड्वेन स्मिथ ने डेब्यू टेस्ट में 93 गेंदों में सेंचुरी पूरी की थी। शॉ ने अपना शतक 99 गेंदों पर ठोका।

पृथ्वी शॉ भारत के दूसरे सबसे युवा खिलाड़ी हैं जिन्होंने टेस्ट में शतक लगाया है। पृथ्वी शॉ से पहले क्रिकेट के भगवानकहलाए जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने 17 साल की उम्र में इंग्लैंड के खिलाफ मैनचेस्टर टेस्ट में शतक जड़ा था।