इराक में बिगड़ी स्थिति, सेना तैनात

irque
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज इराक में फंसे भारतीयों के परिवार के लोगों से साथ

इराक। इराक देश में ‘इस्लामिक स्टेट इन इराक एंड सीरिया (आई.एस.आई.एस.) नाम से सक्रिय आतंकवादी संगठन ने रावा और आना नाम के शहरों पर भी कब्ज़ा जमा लिया है और इक्कीस स्थानीय नेताओं की हत्या कर दी है।
इराक को सीरिया और जॉर्डन देशों से जोड़ने वाले सभी ज़रूरी रास्तों पर आतंकवादियों का कब्ज़ा है। जवाब में आतंकवादियों के आधीन तिकरित शहर पर इराक सरकार ने हवाई हमले किए जिनमें सात लोग मारे गए।
इराक के शहर हदीथ के नज़दीक एक महत्त्वपूर्ण बांध पर आतंकवादी कब्ज़ा करने की कोशिश कर रहे हैं। इसे बचाने के लिए इराकी फौज तैनात है। अगर ये बांध टूट गया तो इराक में बिजली संकट पैदा हो सकता है। देश का टुकड़ों में बंट जाने का खतरा अब बहुत बढ़ गया है। साथ ही आतंकवाद का खतरा आस पास के देशों पर भी बना हुआ है।

सत्रह भारतीय सुरक्षित

हालांकि आतंकवादियों ने अपनी जगह और मज़बूत कर ली है, भारत में कई परिवारों ने चैन की सांस ली जब खबर मिली कि इराक में फंसे उनके रिश्तेदार सुरक्षित हैं। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैयद अकबरुद्दीन ने बताया कि हिंसा वाले इलाकों में एक सौ बीस भारतीयों में से सत्रह को छुड़ा लिया गया है।