खबर लहरिया Blog राजस्थान : जंगल में यौन संबंध बनाते हुए तांत्रिक ने ली प्रेमी जोड़े की जान, हत्या के लिए किया सुपरग्लू का इस्तेमाल

राजस्थान : जंगल में यौन संबंध बनाते हुए तांत्रिक ने ली प्रेमी जोड़े की जान, हत्या के लिए किया सुपरग्लू का इस्तेमाल

राजस्थान के उदयपुर के पास एक जंगल के बीच यौन संबंध बनाते समय एक व्यक्ति का गला काटकर व महिला की चाक़ू मारकर हत्या कर दी गयी।

                                               55 वर्षीय आरोपी तांत्रिक भालेश कुमार जिसे पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया है ( फोटो साभार – इंडिया टुडे )

अंधविश्वास, डर, परेशानियों से दूर भागने का लालच और उसके लिए कुछ भी कर गुज़रने की हिमाकत ने कई घटनाओं को अंजाम दिया है। 18 नवंबर को जयपुर, राजस्थान में दो प्रेमी जोड़े की हत्या के मामले में भी कुछ ऐसा ही देखने को मिला जहां एक तांत्रिक ने इस पूरी घटना की योजना बनाई थी।

एनडीटीवी की प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार, राजस्थान के उदयपुर के पास एक जंगल के बीच यौन संबंध बनाते समय एक व्यक्ति का गला काटकर व महिला की चाक़ू मारकर हत्या कर दी गयी। वहीं उनके नग्न शरीर सुपरग्लू से लिपटे हुए थे जिसका उनकी हत्या में सबसे बड़ा हाथ था।

जानकारी के अनुसार, गोगुंदा क्षेत्र में रहने वाले शिक्षक राहुल (32) व महिला सोनू कुंवर (31) दोनों ही शादीशुदा था। दोनों के अलग-अलग पार्टनर थे। दोनों ही अपने पार्टनर्स से छिपकर एक-दूसरे के साथ संबंध में थे। पुलिस ने खुलासा करते हुए बताया कि जिस तांत्रिक के पास जानें के बीच दोनों के बीच प्रेम हुआ, उसी तांत्रिक भालेश कुमार (55) ने ही दोनों की हत्या की है।

ये भी देखें – माहवारी को लेकर अंधविश्वास से वास्तविकता तक छोटी का सफ़र

सीसीटीवी के ज़रिये पकड़ा गया तांत्रिक

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि घटना की जांच में तकरीबन 200 लोगों से पूछताछ की गई और करीब 50 जगहों पर लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज की भी जांच की गई। जिसके बाद पुलिस आखिरकार भालेश जोशी नाम के तांत्रिक तक पहुंच गयी और उसे हिरासत में ले लिया। पूछताछ में आरोपी तांत्रिक ने हत्या की बात कबूल की।

तांत्रिक को छुड़ाने आये कई लोग

पुलिस ने कहा कि उन्हें तांत्रिक के शामिल होने का यकीन तब हुआ जब उन्हें उसकी उंगलियों पर सुपरग्लू के निशान मिले, जिसके बाद उसे हिरासत में लिया गया। यह भी देखा गया कि इसके बाद कई प्रमुख व्यक्ति उसे मुक्त कराने के लिए आए, लेकिन मामले के गंभीर विवरण की जानकारी मिलते ही वे तुरंत चले गए।

मंदिर में मिले थे दोनों

पुलिस ने बताया कि आरोपी तांत्रिक मंदिर में पुजारी था व भड़वी गुड़ा (Bhadvi Guda) में रहता था। जानकारी यह है कि घरेलू और निजी परेशानियों की वजह से महिला सोनू और राहुल तांत्रिक भालेश के पास जाते थे। 5-6 साल पहले दोनों की मुलाकात हुई थी और तभी से दोनों के बीच प्रेम प्रसंग शुरू हो गया।

ये भी देखें – छतरपुर : चेचक को माता मान अंधविश्वास में इलाज नहीं करा रहें ग्रामीण

तांत्रिक ने किया प्रेम-प्रसंग का खुलासा

एसपी विकास कुमार (उदयपुर) ने बताया कि प्रेम-प्रसंग की वजह से राहुल और उसकी पत्नी में झगड़े होने लगे थे और जब उसकी पत्नी ने सलाह के लिए तांत्रिक से संपर्क किया तो उसने राहुल और सोनू के रिश्ते के बारे में सब बता दिया।

मारने के लिए खरीदा सुपरग्लू

जब राहुल और सोनू को पता चला कि उनके रिश्ते के बारे में उसकी पत्नी को पता चल गया है तो उन्होंने तांत्रिक को बदनाम करने के लिए उसके खिलाफ छेड़छाड़ का मामला दर्ज करने की धमकी दी। समाज में बदनामी के डर से तांत्रिक भालेश ने दोनों की हत्या की साजिश रची। पुलिस ने कहा कि उसने 15-15 रुपये में तेजी से सूखने वाले सुपरग्लू के 50 ट्यूब खरीदे और उन सभी को एक बोतल में डाल दिया।

जंगल में यौन संबंध बनाने को कहा फिर की हत्या

18 नवंबर की शाम को किसी तरह की शांति का वादा करते हुए तांत्रिक ने राहुल और सोनू को बुलाया और जंगल में एक सुनसान जगह पर ले गया। पुलिस के मुताबिक, फिर उसने उन्हें अपनी परेशानियों से छुटकारा दिलाने के लिए उन्हें वहां यौन संबंध बनाने के लिए कहा। उसने दोनों को यह दिखाया कि वह चला गया है और जब वह यौन संबंध बना रहे थे तभी वह लौट आया और दोनों पर सुपरग्लू डाल दी। फिर उसने राहुल का गला रेत कर और महिला की चाकू मारकर हत्या कर दी।

हत्या के बाद शव जलाने की करी गयी कोशिश

जब पुलिस को जंगल में सड़क से तकरीबन 300 मीटर की दूरी पर पड़े शवों के बारे में बताया गया, तो उन्होंने यह देखा कि दोनों तेज़ी से सूखने-चिपकने वाले सुपरग्लू से खुद को छुड़ाने की कोशिश में घायल हो गए थे। व्यक्ति के गुप्तांग भी कटे हुए दिखाई दिए। इसके साथ ही यह भी दिखाई दिया कि शवों को जलाने की भी कोशिश की गयी है।

यह घटना अंधविश्वास, डर, समाज में इज़्ज़त की लालच, परेशानियों से भागने के लिए आसान रास्तों को चुनना आदि कई बातों की तरफ संकेत करती है जोकि बहुत आम है लेकिन इनके इर्द-गिर्द होती घटनाएं उतनी ही भयावह है। तभी आज लोगों को अंधविश्वास से बाहर निकलने के लिए प्रेरित किया जाता है ताकि इन घटनाओं को कुछ हद तक रोका जा सके।

ये भी देखें – चित्रकूट : अंधविश्वास में चाचा-चाची ने ली 9 साल के बच्चे की जान

 

‘यदि आप हमको सपोर्ट करना चाहते है तो हमारी ग्रामीण नारीवादी स्वतंत्र पत्रकारिता का समर्थन करें और हमारे प्रोडक्ट KL हटके का सब्सक्रिप्शन लें’

If you want to support  our rural fearless feminist Journalism, subscribe to our  premium product KL Hatke

Leave a Reply

Your email address will not be published.