खबर लहरिया Blog मुस्लिमों को लेकर ‘नफरत वाले भाषण’ को पीएम ने कहा झूठा, चुनाव में पीएम मोदी के बैन को भी SC ने किया खारिज

मुस्लिमों को लेकर ‘नफरत वाले भाषण’ को पीएम ने कहा झूठा, चुनाव में पीएम मोदी के बैन को भी SC ने किया खारिज

पीएम मोदी ने कहा,”जिस दिन मैं हिंदू-मुस्लिम करूंगा, उस दिन मैं सार्वजनिक जीवन में बने रहने के योग्य नहीं रहूंगा।” आगे कहा, ”मैं हिंदू-मुस्लिम नहीं करूंगा, यह मेरा निश्चय है।”

pm-calls-hate-speech-against-muslims-false-sc-rejects-pm-modis-ban-on-elections

                                                                                        पीएम मोदी की तस्वीर ( फोटो साभार – सोशल मीडिया)

सुप्रीम कोर्ट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चुनाव से बैन करने की मांग की गई थी यह आरोप लगाते हुए कि उनके द्वारा चुनावी रैलियों में ‘नफरत फैलाने वाले भाषण’ (hate speeches) दिए गए हैं। उन्होंने ‘आचार संहिता’ ( Model Code of Conduct) का उल्लंघन किया है। 14 मई को सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका को खारिज कर दिया।

न्यायमूर्ति विक्रम नाथ (Justices Vikram Nath) और न्यायमूर्ति एससी शर्मा ( SC Sharma) की पीठ ने याचिकाकर्ता से कहा कि शिकायत के निवारण के लिए वह सबसे पहले अधिकारीयों से संपर्क करें।

बता दें, शीर्ष अदालत अधिवक्ता आनंद एस जोंधले के ज़रिये से फातिमा द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई की जा रही थी। याचिका में लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम (Representation of People Act) के तहत पीएम मोदी को छह साल के लिए चुनाव से अयोग्य घोषित करने के लिए चुनाव आयोग को निर्देश देने की मांग की गई थी।

इसके तुरंत बाद ही पीएम मोदी का कल मंगलवार,14 मई को एक और बयान आया। बयान में उन्होंने कहा कि उन्होंने कभी हिन्दू-मुस्लिम नहीं किया। न ही किसी तरह की हेट स्पीच दी, जिसका संबंध चुनावी रैलियों में उनके द्वारा दिए गए भाषणों को बताया गया। इसी के तहत पीएम मोदी के खिलाफ यह याचिका भी दायर की गई थी।

ये भी पढ़ें – पीएम ने रैली में मुस्लिम समुदाय को कहा घुसपैठ, कांग्रेस ने कहा – “पीएम मोदी ‘झूठ’ और ‘नफरत के भाषण’ पर उतर आयें हैं”

“मुस्लिमों के खिलाफ कुछ नहीं कहा”- पीएम मोदी

मीडिया संस्थान द न्यूज़ मिनट की रिपोर्ट बताती है, लगभग तीन सप्ताह पहले पीएम मोदी ने एक भाषण देते हुए कांग्रेस पर आरोप लगाया था कि अगर कांग्रेस सत्ता में आई तो मुसलमानों को भारत की संपत्ति दी जायेगी।

14 मई, मंगलवार को News18 को दिए एक इंटरव्यू में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दावा करते हुए कहा कि वे निर्दोष हैं। यहां तक कि उन्होंने इस बात से भी मना किया कि उन्होंने स्टेज पर मुस्लिम शब्द कहा है। जबकि अगर उनकी वडियोज़ देखी जाए तो उनमें यह साफ तौर पर दिखाई देता है कि अपने भाषण में वह मुस्लिम समुदाय को ‘घुसपैठिया’ व ‘अधिक बच्चे पैदा करने वाले’ कह रहे हैं। वीडियो को करोड़ों लोगों द्वारा देखा भी गया है।

इंटरव्यू लेते समय रुबिका लियाकत पीएम मोदी से सवाल करती हैं कि उनके लिए ‘घुसपैठिया’ और ‘लोग जिनके बहुत ज़्यादा बच्चे हैं’, स्टेज पर मुस्लिमों की तरफ इशारा करते हुए कहना कितना ज़रूरी था?

रिपोर्ट लिखती है, “मोदी ने अचानक नाटकीय आवाज़ में कहा,’मैं हैरान हूँ! किसने कहा कि जब मैं बहुत ज़्यादा बच्चे वाले लोगों की बात करता हूँ तो वह सिर्फ मुस्लिमों की ओर संकेत करता है? आप मुसलामानों के साथ अन्याय क्यों कर रहे हैं?

आगे कहा,“हमारे यहां गरीब परिवारों की भी ऐसी हालत है। वे अपने बच्चों को शिक्षित करने में असमर्थ हैं, चाहे वे किसी भी समुदाय से हों। जहां गरीबी है, वहां बच्चे अधिक हैं।”

ये भी देखें – पीएम मोदी ने आज वाराणसी से दाखिल किया नामांकन, कॉमेडियन श्याम रंगीला का आरोप – नामांकन दाखिल करने से रोका

“मैनें कभी हिन्दू-मुस्लिम नहीं कहा” – पीएम मोदी

आगे सवाल किया गया, क्या उनके द्वारा मुसिलम समुदाय का इस्तेमाल करना अधिक बच्चे वाले लोगों के बारे में बात करने से अलग है? रिपोर्ट ने लिखा, “मोदी ने झूठा दावा करते हुए कहा, ‘मैंने न तो हिंदू कहा, न ही मुस्लिम। मैंने केवल इतना कहा था, आपको उतने ही बच्चे पैदा करने चाहिए जितने की आप देखभाल कर सकें। इसे उस स्तर पर न लाएं जहां सरकार को उनकी देखभाल करनी पड़े।’

घोषणा करते हुए कहा,”जिस दिन मैं हिंदू-मुस्लिम करूंगा, उस दिन मैं सार्वजनिक जीवन में बने रहने के योग्य नहीं रहूंगा।” आगे कहा, ”मैं हिंदू-मुस्लिम नहीं करूंगा, यह मेरा निश्चय है।”

बता दें, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा चुनाव 2024 के दौरान 21 अप्रैल 2024 को राजस्थान के बांसवाड़ा में रैली को संबोधित करते हुए कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए बयान दिया था कि “जो उनकी पहले सरकार थी, उन्होंने कहा था कि देश की संपत्ति पर पहला अधिकार मुस्लमानों का है। इसका मतलब ये संपत्ति इकट्ठी करके किसको बांटेंगे, जिनके ज़्यादा बच्चे हैं उनको बांटेंगे। घुसपैठों को बांटेंगे। क्या आपकी मेहनत की कमाई का पैसा घुसपैठों को दिया जाएगा। आपको मंज़ूर है ये?”

कल अपने इंटरव्यू में पीएम मोदी द्वारा इसी बात की सफाई दी जा रही थी। वहीं इसे लेकर जो याचिका डाली गई थी कि पीएम मोदी को चुनाव आयोग चुनाव से बैन कर दे, वह भी याचिका खारिज कर दी गई।

 

‘यदि आप हमको सपोर्ट करना चाहते है तो हमारी ग्रामीण नारीवादी स्वतंत्र पत्रकारिता का समर्थन करें और हमारे प्रोडक्ट KL हटके का सब्सक्रिप्शन लें’

If you want to support  our rural fearless feminist Journalism, subscribe to our  premium product KL Hatke

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *