खबर लहरिया Blog जी20 शिखर सम्मलेन : इंडोनेशिया में हुए 2 दिवसीय सम्मलेन में जानिए क्या हुई ख़ास बातें

जी20 शिखर सम्मलेन : इंडोनेशिया में हुए 2 दिवसीय सम्मलेन में जानिए क्या हुई ख़ास बातें

जी20 सम्मलेन 2022 का आयोजन इंडोनेशिया में 15 और 16 नवंबर को किया गया था। दुनिया के 20 देश जो इस सम्मलेन का हिस्सा हैं, इस 2 दिवसीय सम्मेलन में शामिल हुए। इस सम्मेलन के अंत में एक विज्ञप्ति ज़ारी की गई जिसमें यूक्रेन पर रूसी आक्रमण और दुनिया के लिए इसके प्रभावों पर व्यापक रूप से विचार-विमर्श किया गया।

साभार: ABP न्यूज़

जी20 सम्मेलन में प्रतिनिधि के तौर पर 19 देशों के प्रतिनिधि शामिल होते हैं और एक यूरोपीय संघ शामिल होता है। नेताओं के शिखर सम्मेलन में, 19 देशों के नेताओं और यूरोपीय संघ के नेता शामिल होते हैं और मंत्री स्तर की बैठकों में, 19 देशों के वित्त मंत्री और केंद्रीय बैंक गवर्नर और यूरोपीय संघ के वित्त मंत्री और केंद्रीय बैंक के गवर्नर शामिल होते हैं।

प्रत्येक वर्ष स्पेन के अलावा, जी20 के मेहमानों में आसियान देशों के अध्यक्ष; दो अफ्रीकी देश (अफ्रीकी संघ के अध्यक्ष और अफ्रीका के विकास के लिए नई साझेदारी के प्रतिनिधि) और एक देश (कभी-कभी एक से अधिक) जी20 के अध्यक्ष द्वारा आमंत्रित किया जाता है, आमतौर पर वे अपने ही क्षेत्र से होते हैं।

इस साल कौन-कौन से देश हुए थे शामिल

इस साल सम्मेलन में दुनिया के डेवलप्ड और डेवलपिंग इकोनॉमी वाले देश, जिनमे अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इंडोनेशिया, इटली, जापान, कोरिया गणराज्य, मैक्सिको, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, तुर्की, यूनाइटेड किंगडम, संयुक्त राज्य अमेरिका और यूरोपीय संघ देश शामिल हुए थे। अमेरिका, चीन, जापान, जर्मनी और भारत जैसे टॉप 5 सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाले देश इस समूह का हिस्सा हैं।

पीएम मोदी ने इन देशों के साथ की बैठक

इस सम्मेलन के दौरान भारतीय पीएम ने कई देशों जैसे जर्मनी, इटली, इंडोनेशिया, ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन के राष्ट्रपतियों और प्रधानमंत्रियों से मुलाकात की और तमाम विषयों को लेकर चर्चा भी हुई, जिनमें खाद्य, सुरक्षा ऊर्जा, यूक्रेन संकट जैसे मुद्दे शामिल थें।

जी20 में गूंजा पीएम मोदी का संदेश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सितंबर में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ बातचीत में जो संदेश दिया था उसकी प्रतिध्वनि जी20 शिखर सम्मेलन के घोषणापत्र में बुधवार को सुनाई दी। घोषणापत्र में नेताओं ने यूक्रेन युद्ध को तत्काल खत्म करने का आह्वान करते हुए कहा कि “आज का युग, युद्ध का युग नहीं होना चाहिए।”

पीएम मोदी ने दिए जी20 मे शामिल राष्ट्राध्यक्षों को ‘गुजराती-हिमाचली’ गिफ्ट

साभार: दैनिक भास्कर

जी-20 की बैठक में इंडोनेशिया से बाली पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसमें शामिल तमाम देशों के प्रधानमंत्रियों को गिफ्ट दिए हैं। खास बात ये है कि सभी गिफ्ट्स गुजरात और हिमाचल के कारीगरों ने अपने हाथों से बनाए हैं। पीएम मोदी ने ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक को देवी मां की पेंटिंग दी तो अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन को राधा-कृष्ण भगवान का श्रंगार रस वाला चित्र दिया। मोदी ने इटली और ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्रियों को भी गुजराती कलाकारों द्वारा बनाए गए गिफ्ट दिए।

इटली की पहली महिला प्रधानमंत्री जॉर्जिया मेलोनी को दिया पाटन पटोला स्कार्फ

साभार: दैनिक भास्कर

प्रधानमंत्री मोदी ने इटली की पहली महिला प्रधानमंत्री जॉर्जिया मेलोनी से मुलाकात की। मोदी ने मुलाकात के बाद उन्हें गुजरात के पाटन की परम्परा के प्रतीक ‘पाटन पटोला दुपट्टा’ (स्कार्फ) गिफ्ट किया। यह स्कार्फ उत्तरी गुजरात के पाटन क्षेत्र में साल्वी परिवार द्वारा बुना गया है । इसमें आगे और पीछे का हिस्सा एक जैसा दिखता है।

भारत को मिली जी-20 की अध्यक्षता

( साभार: दैनिक भास्कर)

प्रधानमंत्री मोदी ने इटली की पहली महिला प्रधानमंत्री जॉर्जिया मेलोनी से मुलाकात की। इस दौरान दोनों नेताओं ने ट्रेड और इन्वेस्टमेंट के मुद्दे पर चर्चा की।

इस पूरे जी-20 सम्मेलन में भारत के लिए सबसे खास बात ये रही कि अगले साल यानी 2023 में भारत इस समिट की मेजबानी करने जा रहा है। इंडोनेशिया ने बाली शिखर सम्मेलन के समापन के साथ ही आने वाले साल के लिए भारत को जी20 की अध्यक्षता सौंपी और प्रधानमंत्री मोदी ने इसे हर भारतीय नागरिक के लिए गर्व की बात बताया। इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो ने एक समारोह में प्रधानमंत्री मोदी को जी20 की अध्यक्षता सौंपी। भारत 1 दिसंबर से औपचारिक रूप से जी-20 की अध्यक्षता संभालेगा।

इस लेख को आमरा आमिर द्वारा लिखा गया है। 

 

‘यदि आप हमको सपोर्ट करना चाहते है तो हमारी ग्रामीण नारीवादी स्वतंत्र पत्रकारिता का समर्थन करें और हमारे प्रोडक्ट KL हटके का सब्सक्रिप्शन लें’

If you want to support  our rural fearless feminist Journalism, subscribe to our   premium product KL Hatke  

Leave a Reply

Your email address will not be published.