बारिस में भओ लाखन रूपइया को नुकसान

IMG_4259जिला महोबा, ब्लाक कबरई, गांव सलारपुरा। एते ज्यादा पानी बरसे में पिपरमेंट की खेती में लाखो रूपइया को नुकसान भओ हे। जीसे गांव के आदमी आपन परिवार खे लेके भुखमरी के कगार में में आ गए हें। पे शासन प्रशासन गरीब किसान के बारे कछु ध्यान नई देत हे।
वार्ड नम्बर ग्यारह के वीरेन्द्र, सुखदेव परसु ओर रामप्रसाद ने बताओ कि हमाई तीन-तीन चार-चार बीघा में पिपरमेंट बोई हती। कटे के बाद पानी बरसो हे जीमें लगभग लाखन रूपइया को नुकसान भओ हे।
संतोष कुमार नाथूराम, रतनसिंह राजपूत ओर किशोरी राजपूत ने बताओ कि हम चार साल से पिपरमेंट की खेती करत हंे। पेहली बार हमाओ एक लाख को नुकसान भओ हे। जा खेती की बेल रूपइया में खरीदने परत हे। जा खेती साल में दो दइयां बोने परते हे। गर्मीयन में एक हफ्ता में दो दइयां पानी लगाउने परत हे। एक बीघा खेती में लगभग पन्द्रह हजार रूपइया लगाउत हंे। निदाई गोड़ाई खे मजदूर लगाउने परत हे। अगर फसल अच्छी तैयार हो गई तो चालिस हजार को फायदा हो जात हे। ई दइयां की फसल पूरी सड़ जाये से परिवार पालब मुश्किल परने हे। जभे दैवीय आपदा विभाग के बाबू अखिलेश कुमार खरे ने बताओ कि एते अभे पानी से कोनऊ फसल को नुकसान नई भओ हे जीखे मुआवजा दओ जाय। कछु फसलन को मुआवजा छत्तीस लाख इक्कीस हजार रूपइया आओ हे जोन बांट दओ हे। एते कोनऊ रिपोर्ट नई आई हे। जभे कि महोबा के सलारपुर श्रीनगर डिंगरिया तिन्दौली पिपरमेन्ट की फसल का कोनऊ मान्यता नइयां, ओर न हमाये एते ईखी सहित केऊ गांवन में पिपरमेन्ट की खेती होत हे। पे सरकार के एते कोनऊ मान्यता नइया।