आ गया शुक्रवार? चलो, मूवी देखने चलें

तू है मेरा संडे
कलाकार: बरुण सोबती, शहाना गोस्वामी, विशाल मल्होत्रा, अविनाश तिवारी
निर्देशक: मिलिंद धाईमडे
कहानी है मुंबई शहर में रहने वाले अर्जुन, राशीद, डोमिनिक, मेहेर्नोश, और जयेश, पांच दोस्तों की, जो अपनी-अपनी ज़िन्दगी के जद्दो जेहेद में लगे हुए हैं। उनकी रोजमर्रे की ज़िन्दगी में आशा की किरण जैसा है उनका संडे, क्योंकि हर रविवार वे सब मिलकर जुहू बीच पर फुटबॉल खेलते हैं।
एक रविवार, जब बॉल गलती से एक मशहूर हस्ती को लग जाती है, तब बीच में सारे खेल पर पाबंदी लगाने का आदेश सुनाया जाता है।
इस घोषणा के बाद, सभी सी जिंदगियों में उथल-पुथल मच जाती है, और सभी एक गहरी सोच में पड़ जाते हैं की आखिर ख़ुशी का मतलब होता क्या है, और हम अपनी ज़िन्दगी से आखिर चाहते क्या है।
हृषिकेश मुख़र्जी के फिल्मों से प्रेरित, इस मूवी का निर्माण स्वंतंत्र साधनों से हुआ है। निर्देशक ने इस फिल्म के लिए स्वयं धन जोड़ने का अभियान चलाया। उनका मानना है की इस तरह की फिल्में पहले बहुत बनती और चलती थी, पर अब बॉलीवुड में मुख्यधारा बहुत हावी हो गया है। इसके चलते ही, मिलिंद धाईमडे ने ये फिल्म बनाने की ठानी, और नए उभरते कलाकारों को अभिनय का मौका दिया।