पांच महीने से न्याय के लिए भटक रही महोबा जिले की बलात्कार पीड़िता

यौन उत्पीड़न पर सख्त कानून बनने के बाद भी जमीनी स्तर पर कोई सुधार नहीं हो रहा है। महिलाओं के साथ होने वाली हिंसा छेड़खानी और बलात्कार के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। महोबा जिले के कुलपहाड़ थाना क्षेत्र में 20 सितम्बर 2017 को एक महिला ने तीन लोगों पर बलात्कार का आरोप लगाया था। इंसाफ के इंतजार में एक-एक दिन गिनकर काटने वाली महिला को पांच महीना बीत जाने पर भी न्याय नहीं मिला है।
पीड़ित महिला ने बताया कि खेत गई थी, तब तीन लोगों ने मेरे साथ गलत काम किया है। कुलपहाड़, महोबा और बांदा सब जगह गये हैं, लेकिन कहीं सुनवाई नहीं हुई है। महिला के ससुर का कहना है कि हम गरीब है तो मेरी बहु को दबंग मजदूरी करने के लिए लिवा गये थे। काम तो नहीं करवाया है लेकिन मेरी बहु के साथ दबंगो ने गलत काम किया है। इतने दिन हो जाने के बाद भी अभी तक डाक्टरी जांच नहीं हुई है।
कुलपहाड़ पुलिस उपाधीक्षक वंश नारायण सिंह का कहना है कि दो लोगों के खिलाफ छेड़छाड़ का मुकदमा लिखा गया था। कोर्ट के बयान में बलात्कार की घटना को बताया, तब धारा बदलकर दूसरा मुकदमा लिखा गया। एक आरोपी पकड़ गया है, दूसरा फरार है, जल्द ही पकड़ा जायेगा।

रिपोर्टर- श्यामकली