हैण्डपम्प बिगडै़ से अउर बढ़ गे पानी के समस्या

dhodhiya phatak gavn
हैण्डपम्प पड़ा खराब

जिला चित्रकूट, ब्लाक मऊ, गांव डोडि़या माफी। हिंया रेलवे केबिन के लगे एक हैण्डपम्प लाग हवै। वा हैण्डपम्प दुइ महीना से खराब हवै। या कारन सैकड़न मड़ई पियैं के पानी खातिर परेशान हवै।
या समस्या का लइके बरगढ़ रेलवे स्टेशन के प्रबन्धक अचल पाण्डेय का कहब हवै कि मानिकपुर ब्लाक से मिस्त्री का बोला के हैण्डपम्प बनवा दीन जई। केबिन मैन वेदांग प्रसाद अउर रास्ता से निकरै वाले वंशधर, राजू अउर विमल का कहब हवै कि पानी के समस्या हवै। आधा किलो मीटर दूर पानी लें जाये का परत हवै।
पानी के दूसर समस्या ब्लाक रामनगर, गांव सिकरी के हवै। हिंया के छेदीलाल, रश्मि, चुन्नी लगभग बीस लोगन का कहब हवै कि एक बरस से बस्ती का हैण्डपम्प खराब पड़ा हवै। बस्ती के मड़ई दूसर बस्ती पानी लंे खातिर आधा किलो मीटर दूर जात हवैं। या समस्या से सैकड़न मड़ई परेशान हवैं। प्रधान सुशीला देवी का कहब हवै कि हैण्डपम्प का प्रस्ताव बना के ब्लाक मा दीन हवै। जबै पास होइ तौ रिबोर करवा दीन जई।
पानी के तीसर समस्या जिला चित्रकूट, ब्लाक पहाड़ी, गांव पथरामानी के हवै। हिंया के आबादी छह हजार हवै। कुंआ अउर हैण्डपम्प से खारा पानी निकरत हवै। या समस्या कइयौ पीढ़ी से हवै। यहै से गेडुवा नदी मा चोहड़ा बना के पानी लावत हवंै। तबै उनकर बसर होत हवै।
हिंया के राजेश, जगदीश, छविराम समेत पचास लोगन का कहब हवैं कि या गांव का मड़ई बूदं-बंूद पानी का तरसत हवै। पूर गांव मा खारा पानी निकरत हवै। अबै तक गेडुवा नदी से चोहड़ा बना के पानी लावत रहेन, पै बरसात होय से नदी मा बाढ़ हवै। या से चोहड़ा के ऊपर से पानी बहत हवै। यहै से दुइ किलो मीटर लोहदा गांव के पुरवा से पानी लइत हन।
प्रधान जगतपाल का कहब हवै कि गेडुवा नदी से सबै मड़ई पानी लावत रहै। हैण्डपम्प लगावै से कउनौ फायदा नहीं आय। एक बरस पहिले गांव के बाहर जगंल मा कुंआ खोदवाये रहौं, तौ एक महीना बाद कुंआ से भी खारा पानी निकरै लाग हवै।