सुषमा स्वराज और योगी आदित्यनाथ ने की घोषणा, इस बार का प्रवासी भारतीय दिवस होगा खास

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 15 वें प्रवासी भारतीय दिवस समारोह की वेबसाइट का लोकार्पण करते हुए बताया कि जनवरी 2019 में होने वाला 15वां प्रवासी भारतीय दिवस इस बार बहुत खास होने वाला है।

21 से 23 जनवरी के दौरान काशी (वाराणसी) में आयोजित होने वाले प्रवासी भारतीय सम्मेलन में कारोबारी बातों के अलावा श्रद्धा के साथसाथ रोमांच भी होगा, क्योंकि इस बार प्रवासी भारतीयों के लिए विशेष रूप से प्रयाग में उस दौरान चल रहे कुम्भ मेले के दर्शन और संगम में स्नान के अलावा नई दिल्ली में गणतंत्र दिवस परेड में शामिल होने का मौका होगा।

इस मौके पर सुषमा स्वराज ने बताया कि 15वें प्रवासी भारतीय दिवस समारोह के मुख्य अतिथि मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविन्द्र जगन्नाथ होंगे जबकि युवा प्रवासी दिवस समारोह के मुख्य अतिथि नॉर्वे में युवा सांसद हिमांशु गुलाटी होंगे। उनकी मौजूदगी में ही उत्तर प्रदेश के भागीदार प्रदेश होने संबंधी समझौता ज्ञापन पर विदेश मंत्रालय एवं उत्तर प्रदेश सरकार के अधिकारियों ने हस्ताक्षर हुए।

समारोह का उद्घाटन 22 जनवरी को प्रधानमंत्री मोदी करेंगे जबकि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 23 जनवरी को इसका समापन करेंगे। राष्ट्रपति 30 प्रवासी भारतीयों को उनकी उत्कृष्ट उपलब्धियों के लिए प्रवासी भारतीय सम्मान प्रदान करेंगे।

सुषमा स्वराज ने बताया कि इस कार्यक्रम में प्रवासियों की मांग पर कुछ परिवर्तन किये गये हैं। समारोह की तारीख 7-9 जनवरी के बजाय 21-23 जनवरी की गयी है। प्रवासियों ने 15 जनवरी से प्रयागराज में तीन नदियोंगंगा यमुना सरस्वती के पवित्र संगम पर लगने वाले विश्व के सबसे बड़े जनसंगमकुंभ मेलेको देखने और 26 जनवरी को राजधानी में गणतंत्र दिवस परेड देखने की इच्छा व्यक्त की थी। उन्होंने इसके लिए कार्यक्रम की तारीख बदलने का आग्रह किया था। सरकार ने उसी के अनुरूप कार्यक्रम तय किया है।

विदेश मंत्री ने बताया कि विश्व की सबसे प्राचीन नगरी और भारत की सांस्कृतिक राजधानी काशी में प्रवासी भारतीय दिवस समारोह का शुभारंभ गंगा आरती के साथ होगा। पहले दिन 21 जनवरी को युवा प्रवासी भारतीय दिवस समारोह होगा जिसमें 18 से 35 वर्ष आयु वर्ग के युवा प्रवासी भाग लेंगे। उसके बाद उत्तर प्रदेश प्रवासी भारतीय दिवस कार्यक्रम होगा जिसका उद्घाटन मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ करेंगे।