सामाजिक कार्यकर्ता कै भै बैठक

gaaw  13-9-1
कार्यक्रम कै संचालक

जिला फैजाबाद। 7 सितम्बर 2013 का जैनपुर, महोबरा बाजार फैजाबाद मा शहर के तात्कालिक स्थिति पै एक संवाद कार्यक्रम शहर के सामाजिक/सांस्कृतिक मनई के द्वारा आयोजित कीन गै रहा।
युगल किशोर शरण शास्त्री कहिन कि अयोध्या का एक बार फिर विवादास्पद मुद्दा पैदा कइके गर्म करा जात बाय। ऐसे मा सब सामाजिक व्यक्ति का आगे आइके यकरे खिलाफ काम करै का चाही। एडवाकेट अशोक श्रीवास्तव कहिन कि अगर हमरे सब अबहीं न चेतब तौ स्थिति अउर गम्भीर होय सका थै। विशाल श्रीवास्तव बताइन कि साम्प्रदायिकता कै समस्या आज कै न आय। यकै जड़ बहुत पुरान आय।
धीरज सोनी बताइन कि अराजक तत्व कउनौ दूसरे दुनिया से नाय आवत हमरे सबका वहि सब मनई तक पहुंच बनावै का चाही। जेका वास्तविक तत्व कै पता नाय बाय जिनके पास से ई आग आगे बढ़ा थै। आफताब हुसैन कहिन कि आज पूंजीवादी हमला के विरुद्ध हमैं आन्दोलन एवं गोष्ठी कै आयोजन कइके जन-जन तक यकै सच पहुंचावै कै प्रयास करै का चाही। भारती सिंह कहिन कि हमैं वहि प्वाइन्ट कै पहचान करै का चाही जहां से अफवाह आधारहीन विषय कै रुप लै लिया थै। यकै पहचान कै लियै से हम सब वकरे रोकथाम पै विचार कै पाउब।
कार्यक्रम के समापन पै शायर एडवोकेट एस.एम. अब्बास आपन बात अपने नम्ज के माध्यम से कहिन- बह रहा है यह जो सड़कों पे इन्सान का खून, धर्म ऊपर नहीं इन्सान है ऊपर, कबसे कह रहा है यही पैगाम तो गौतम कब से, तुमने सुकरात की आवाज दबा दी जबसे, तबसे होता रहा है धर्म का ईमान का खून।
यहि कार्यक्रम कै संचालक अफाक उल्ला करिन अउर कहिन कि ई हमरे शहर कै साझी संस्कृति अउर वसे मुहब्बत करै वाले मनई कै पहचान आय कि हम एक आवाज पै इक्कठा होय जाई थी।