सरकार कब करथिन विचार

बिहार गृह रक्षा दल सब कहई छथिन कि सरकार हमरा सब के सात सूत्री के मांग कहिया पुरा करथिन। एई महंगाई में ओतना रूपईया से कि होतई। कइसे पेट भरतई कईसे बच्चा के पढ़ाई हो पतई।
गृह रक्षा दल सब अपन मांग पुरा करे के लेल बार-बार धरना अउर भूख हड़ताल पर बईठल छथिन। लेकिन अभी तक कोई सुनवाई न हो रहल हई। जब कि एक तरफ अउर पुलिस कर्मी के सब  सुविधा देले छथिन त ओहि लेखा होमगार्ड सिपाही के भी होय के चाहि। इ सिपाही भी सरकार के जे भी काम या जहो ड्यूटी देई छेथिन उहां उ लोग ड्यूटी पुरा करई छथिन। चाहे उ वोट हो, चाहे थाना पर  हो, चाहे जगह-जगह जहां सरकारी विभाग में हो हर जगह ड्यूटी निभावई छथिन। फिर भी उनका सब के लेल सरकार कोनो सुविधा न देई छथिन। जइसे गांव में मजदूर लोग मजदूरी करई छथिन।
आहि तरह हमरा सबसे मजदूरी करबई छथिन। लेकिन इहो त बात ध्यान में रखे के चाहि कि उ लोग के भी जीवन हर समय खतरे में रहई छई। दिन प्रतिदिन आतंकि, लूट-पाट, गोली, बम-विस्फोट हो रहल हई। केतना जगह होमगार्ड के जवान भी मारल गेलई। लेकिन उनका कोनो सुविधा न मिलल। मरला के बाद एक लाख या दु लाख रूपईया के चेक परिवार में दे देई छथिन त कि ओई रूपईया से उनकर परिवार के जीवन चल जतई। सरकार अउर अधिकारी लोग के भी इ बात सोचे के चाहि कि उ लोग भी देश के रक्षक छथिन। त उनको सब के मांग पुरा होय के चाहि।