सरकारें बदली नई बदली सड़के

18जिला महोबा, ब्लाक कबरई, गांव पहरा। एते के केऊ गांवन की सड़के जर्जर हो गई हें। सड़कन में बड़े-बड़े गड्ढा हें। जीसे साधन पलट जात हें, ओर आदमियन खा पैदल चले खा परत हे।
रेखा ओर हीरामनी ने कहो कि तीन साल से सड़क खराब हे। कबरई से पहरा की दूरी 8 किलोमीटर हे। जा सड़क में बड़े-बड़े गड्ढा होंये के कारण केऊ बार आटो पलट चुके हें। जीसे आदमियन की जान जायें से बची हें।
अर्जुन ने बताओ कि रिश्तेदारी में जात हें तो घर से पुराने कपड़ा पहन खे जात हे। काय से कि बरसात होय चाहे गर्मी का मौसम, कपड़ा तो गन्दे हो ही जात हें।
एसई खरका गांव के बल्दू चैकीदार, स्वामीदीन ओर लच्छी ने बताओ कि टूटी सड़क से आयें जायें में बोहतई परेशानी को सामना करने परत हें। अगर कोनऊ मरीज बीमार हो जाता हे तो कोनऊ साधन नइयां, कि जल्दी से दवाई कराउन जा सकन। उल्टा रास्ता मटौंध से कबरई घूम कर जानें परत हे।
महेन्द्र सिंह बताउत हे कि सड़क खराब होंय के कारन आशा डिलेवरी कराउन कबरई जात हती। दिसम्बर 2013 में गड्ढन के कारण बच्चा सड़क में ही पैदा हो गओ हतो।
पहरा प्रधान जगदीश ने कहो कि चार दइयां मुख्यमंत्री खा लिखित दरखास कोरियर ओर फैक्स से भेज चुके हें। अगर सड़क नहीं बनी तो अनशन के लिए मजबूर हो जेबी।
महोबा लोक निर्माण खण्ड (पी.डब्लू.डी.) कबरई ब्लाक के देखे वाले सहायक अभियन्ता रामराजा ने बताओ कि ग्रामीण स्तर की सड़क उच्चीकरण ओर सुन्दरीकरण करवायें खा बजट नइयां। खरका गांव की सड़क खनिज विभाग के तहत बनवाई जेहे।