सरकारी कीमत कम,पसरा सन्नाटा

taja shivrampur copyचित्रकूट जिला मा धान गेहूं खरीद केन्द्र अट्ठाइस हवै पै केन्द्र मा गेहू बेचै खातिर किसान नहीं आवत। यहिकर कारण हवै कि गेहूं का सरकारी रेट पन्द्रह सौ पच्चीस रूपिया कुन्तल हवै जबै कि आम मड़ई सोलह सौ रूपिया कुन्तल हवै। यहिसे समिति मा सन्नाटा पसरा हवै।
ब्लाक कर्वी, गांव इटखरी के भोला अउर बगलई गांव के नत्थूराम कुशवाही का कहब हवै कि हिंया किसानन का पियै खातिर पानी के सुविधा नहीं आय। अगर पचास किलो गेहूं मा दुइ किलो गेंहू लइ लीन जात हवै। यहिसे हमका धान गेंहू खरीद केन्द्र मा गेंहू बेचै मा कउनौ फायदा नहीं आय। या कारन शिवरामपुर धान गेहूं खरीद केन्द्र मा गेंहू नहीं बेंचित हन।
मऊ ब्लाक, गांव खोहर के रामदीन और कलावती कका कहब हवै कि गेंहू नहीं आय कि बरगढ़ सोसायटी मा गेंहू बेचै जई। काहे से कि या साल हमार जमीन परती परी हवै। अपने से सिंचाई करै क कउनौ साधन नहीं आय।।
शिवरामपुर धान गेंहू खरीद केन्द्र के आंकिक, सत्येन्द्र कुमार का कहब हवै कि या समिति मा अट्ठारह गांव लागत हवै। 1 अप्रैल से 15 जून तक गेहूं खरीदा जई। 24 मई तक मा कुल सोलह सौ कुन्तल गेंहू खरीदा गा हवै। हिंया किसान गेंहू बेचै नहीं आवत हवै। काहे से कि हिंया गेंहू के सरकारी कीमत कम हवै। पी. सी. एफ. विभाग वाले कहिन कि या साल सूखा परै के कारन गेहूं के पैदावार कम भे हवै। सरकारी कीमत कम हवै। यहिसे बहुतै कम किसान गेंहूं बेचै आवत हवै। दाम कम होय खातिर कुछौ नहीं कीन जा सकत ।

रिपोर्टर – तबस्सुम, सुनीता देवी