समाजवादी सूखा राहत पैकिट के कारन आदमी कोटेदार से परेशान

gao-se--kotedar-ki-samsya-edसूखा से मजदूर गरीब आदमियन की हालत खराब हती। अप्रैल 2016 मे राज्य सरकार अन्तोदय राशनकार्ड वालेन खा सूखा रहत पैकिट बांटो हतो। जीसे गरीब आदमी भूखो न सोये। पे ईखो लाभ बोहतई कम आदमियन खा मिलत हे। डी.एम. कार्यालय ओर तहसील दिवस मे आदमियन की दरखासन को तांता लगो रहत हे।
ब्लाक पनवाड़ी, गांव महुआ को छत्रपाल अहिरवार कहत हे की मोओ बीस साल से अन्तोदय राशनकार्ड बनो हे। गरीबी ज्यादा होंय के कारन मे बाहर दिल्ली मे मजदूरी करत हों। बच्चा कोटा से रासन लेक आपन खात हते। पे सूखा राखत पैकिट नई मिलो हे। घर से फोन गओ की कोटेदार हमे राशन नई देत हे। में अपने बच्चा ओरत खा लेवा के गाड़ी किराया लगा के आये। तहसील गये तो पता चलो की हमाओ अन्तोदय सूची से नाम काट दओ हे।
कबरई, गांव खम्हारिया की घसिटया बताउत हे की मे बेवा पचहत्तर साल की बूढ़ी ओरत हों। मोई नातिन आंखन से आंधर हती तो ऊखो लाल राशनकार्ड नो हतो। मोई राशनकार्ड के गल्ला से मे भी आपन पेट भरत हती। अब ऊखी शादी हो गई हे तो ससुराल मे हे। कोटेदार मैनादेवी को आदमी मोये राशनकार्ड नई बनवाउत हे।
सुशीला कहत हे की पेहले मोये पास लाल राशन कार्ड बनो हतो। पे ई सूखा राहत पैकिट की सूची से कोटेदार ने हमाये साळो पचास आदमियन को नाम काट दओ हे। हमाये सबके पेहले वाले राशनकार्ड जमा कर लओ हतो। फोटो कापी हमाये पास हे। छोट्-छोट् चार बच्चा हे। मजदूरी करके परिवार चलाउत हें।
बसंती बताउत हे की मोये आदमी खा दुर्गा खा मरे ग्याह साल हो गये हे। पांच बिटियां हे। मोये पास अन्तोदय वालो लाल राशनकार्ड बनो हतो पे हमाओ नाम काट दओ हे। इखी दरखास 17 मई खा एस.डी.एम. खा दई हे।
एस.डी.एम. सुशील प्रताप सिंह ने जांच करा के राशन दिबायें को अश्वासन दओ हे।
कोटेदार मैना देवी के आदमी शिवबदन से फोन मे बात करी तो ऊने सब झूठ कहे को आरोप लगाओ हे। नाम काटे के बारे कछू पता नइयां कहके फोन काट दओ।
ब्लाक जैतपुर, कस्बा बेलाताल, मोहल्ला खदिंया के संतोषी ओर शान्ति को आरोप हे की कोटेदार खा चार-चार दइयां रूपइया देय के बाद भी हमाये राशनकार्ड नई बनवाये हे। एक आदमी से सौ रूपइया लओ हे। मुन्नीदेवी कहत हे की मोये घर मे नौ जाने हे। हम बसोर जाति की ओरते हे। गलिन मे झाड़ू लगा के आपनो बच्चन को पेट पालत हे। फिर भी कोटेदार मुह चीन्ह के राशनकार्ड बनवाउत हे। कोटेदार लक्ष्मी गोस्वामी कहत हे की 53 अन्तोदय राशन कार्ड बने हे। 479 खाद्य सुरक्षा के तहत बन गये हे। 22 सौ यूनिट गल्ला बांटत हो। तीन सौ आदमियन के राशन कार्ड बने खा रेह गये हे। मे रूपइया कोनऊ से नई लेत हो सब झूठो आरोप बताउत हे।

 रिपोर्टर – खबर लहरिया ब्यूरो