शौचालय के लेल पंचायत में हई रूपईया

w4जिला शिवहर, प्रखण्ड तरियानी, गांव माधोपुर छाता। इहां के लोग सब के कहना हय कि हमरा सब के पास शौचालय न हय। जेई कारण बाहर जाये में बड़ा दिक्कत होईय।
इहां के मोकिमा खातून, सैफुल खातून, मोहम्मद जबार, तैमून खातून कहलथिन कि हमरा सबके कहिया शौचालय बनतई से हम न जनई छी? केतना बेर होई छई कि बनतई लेकिन बनते-बनते रह जाई छई। एक बेर होलई कि एन.जी.ओ. बनईथिन उहो न भेलई। अब कहई छथिन अपने बनाउ, पता न बनला के बाद रूपईया मिलतई कि न? दोसर में हमरा सबके पास ऐतना रूपईया कहां से अतई से हम शौचालय बनायब।
पी.एच.ई.डी. विभाग के बड़ा बाबू जितेन्द्र कुमार कहलथिन कि निर्मल भारत अभियान के तहत 4600 सौ रूपईया देल जाई छई। मनरेगा से 4500 सौ रूपईया अउर नौ सौ रूपईया खुल लाभर्थी के देवे परई छई। ऐई के लेल हर पंचायत में पी.एच.ई.डी. विभाग से सौ शौचालय के लेल रूपईया चल गेल हई। अब आगे मुखिया काम करवईथिन।
मुखिया जयमाला देवी के पति जगदिश राय कहलथिन कि हमरा सब के अभी पन्द्रह गो महादलित के शौचालय पहिले बनवावे के हई। लोग के खुद से शौचालय बनावे के हई। ओकरा बाद उनका खाता में ही रूपईया भेजल जतई। हम अपन रुपईया केना लगाउ?