शेरों से सुरक्षा की बनाई तरकीब

19-12-13 Turere 2
(फोटो साभार: पौला कहुम्बु | fonnap.wordpress.com)
(फोटो साभार: पौला कहुम्बु | fonnap.wordpress.com)
(फोटो साभार: पौला कहुम्बु | fonnap.wordpress.com)

केन्या, दक्षिण अफ्रीका। केन्या देश के एक गांव के तेरह साल के रिचर्ड तुरेरे ने अपने मवेशियों की सुरक्षा के लिए ‘लायन लाइट्स’ (शेर बत्तियां) नाम का एक यंत्र बनाया। केन्या के जंगल के आसपास आदिवासियों के गांव बसे हुए हैं। अकसर जंगल से शेर और अन्य मांसभक्षी रात के समय मवेशियों पर हमला कर देते हैं। पहले रिचर्ड ने बिजूके और लालटेन से इन जानवरों को डराने की कोशिश की। फिर उसने समझा कि जानवर दरअसल जलती-बुझती लाइटों से डरते हैं।
रिचर्ड ने मवेशियों के लिए बनाए गए घेरे के चारों ओर डंडों पर बल्ब फिट किए। इन्हें तारों द्वारा एक गाड़ी की पुरानी बैट्री से जोड़ा। इस बैट्री को सौर्य ऊर्जा से चार्ज किया, इन्हें इस तरह लगाया गया जिससे वे एक के बाद एक जलें। इससे शेर, चीता जैसे जानवरों को लगता है कि कोई लोग टार्च लेकर पहरा दे रहे हैं और वे भाग जाते हैं। आज की तारीख में यह यंत्र पांच सौ रुपए से कम का पड़ता है।