शामली जिले में सांप्रदायिक हिंसा

शामली। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के शामली जिले के कांधला इलाके के अल्पसंख्यक समुदाय ने 2 मई को रेलवे ट्रैक पर प्रदर्शन किया। इन लोगों का कहना था कि 1 मई को नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से जनता एक्सप्रेस में सवार तबलिगी जमात के पांच लोगों के साथ हिंदू समुदाय के लोगों ने मारपीट की। यह एक धार्मिक जमात होती है। यह लोग देश के अलग अलग हिस्सों में जाकर अपने समुदाय के लोगों के बीच धर्म से जुड़ी बातों पर चर्चा करते हैं। अपने धर्म के बारे में अपने समुदाय के बीच जागरुकता फैलाते हैं। यह जमात सहारनपुर जा रही थी। लेकिन बीच में ही उनके साथ मारपीट हुई। इससे नाराज लोगों ने कांधला रेलवे ट्रैक से गुजरने वाली रेलों पर पथराव कर प्रदर्शन किया। इनकी मांग थी कि दोषियों को गिरफ्तार किया जाए।
इस बीच कांधला रेलवे ट्रैक पर पहुंची पुलिस ने भीड़ पर लाठीचार्ज किया। फायरिंग भी की। इसमें पंद्रह पुलिस वाले और कुछ आम लोगों को भी चोटें आईं। यह अफवाह भी फैली कि फायरिंग में तीन लड़कों की मौत हो गई। इससे नाराज लोगों ने कांधला पुलिस थाने में आग लगा दी। इसमें थाने का लगभग सारा फर्नीचर जल गया। मेरठ जोन के आई.जी. आलोक शर्मा ने बताया कि जमात के जिन लोगों के साथ मारपीट हुई थी। उन पांच लोगों ने अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट लिखवाई थी। लेकिन इस मामले की जांच होती उससे पहले ही शामली जिले और मेरठ जिले के कुछ लोगों ने कांधला रेलवे ट्रैक पर पथराव किया। आसपास खड़े कई वाहनों को आग लगा दी। जिन अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज हुई थी पुलिस उनकी खोज कर रही है।