वकील के लगाउत चक्कर

सियारानी
सियारानी

जिला महोबा, ब्लाक चरखारी, गांव पुन्निया। एते की सियारानी बसोर आपन नातिन लक्ष्मी के शादी जून 2013 के महीना में करी हती। जीखा शादी अनुदान को रूपइया को फारम जुलाई 2013 में वकील हरीशंकर तिवारी की मदद से डारो हतो। अभे तक ऊखा जो पतो नइयां कि वकील ने फारम भेज हे कि नई। एई से ऊ वकील के चक्कर लगाउत हे।
सियारानी ने बताओ कि अभे जून के महीना में नातिन लक्ष्मी खे शादी गुरू इटौरा, जालौन जिला के कैलाश के साथे करी हती। शादी में मोये लड़का ने पचास हजार रूपइया को कर्जा लओ हतो। हम बनी मजदूरी से खाये वाले आदमियन हें। इत्तो रूपइया किते से आहे कि आदमियन को कर्ज चुका देबी। एई से मेने वकील हरीशंकर खे मदद से शादी अनुदान को फारम भरवाओ हतो। सोचत हते कि सरकार केती से तीस हजार रूपइया मिल जेहे तो कर्जा चुकाये में आराम हो जेहे। मोओ लड़का रामश्री ओर बहू अनीता दोनऊ जने दिल्ली मजदूरी करे चले गये हें। अब में बूढ़ी ओरत पुन्नियां गांव से हर हफ्ता चरखारी आउत हों। जा पता करे खे लाने कि वकील ने फारम भेज दओ कि नई।
वकील हरीशंकर तिवारी ने बताओ कि सियारानी को फारम महोबा समाज कल्याण आफिस में भेज दओ हे, पास भी हो गओ हे। जल्दी ही सियारानी खा रूपइया मिल जेहे। समाज कल्याण के वरिष्ठ सहायक रामसहाय राजपूत ने बताओ कि सियारानी खा फारम ओर रूपइया दोनऊ आ गये हें, पे ग्यारह अंक की खाता संख्या न होय के कारन रूपइया अभे नई भेजो आय। अगर ऊ ग्यारह अंक की आपन खाता संख्या हम खा दे देहे, तो रूपइया भेज देबी।