रौजै लगावत चक्कर

गरीबी से परेशान
गरीबी से परेशान

जिला चित्रकूट, ब्लाक मऊ, कस्बा मऊ। हिंया के मड़ई एक महीना से साड़ी अउर कम्बल खातिर परेशान रहत हवंै। रोजै तहसील के चक्कर लगावत हवै, पै उनका आज तक कम्बल अउर साड़ी नहीं मिला आय।
हिंया के माताबदन हाथ से विकलांग हवै। संवरिया, श्यामकली अउर मनीष समेत लगभग सौ लोगन का कहब हवै कि हम रोजै तहसील के चक्कर लगाइत हन, पै हमका सरकार कुछौ नहीं देत आय। इनतान के ठंडी मा रात दिन आगी जला के आपन बसर करित हन। हमरे कपड़ा तक नहीं आय, पै सरकार एकौ नहीं सोचत आय कि एक-एक कम्बल दइ दे।
मऊ तहसीलदार कतवारूराम का कहब हवै कि तीन सौ पचास कम्बल आय हवै तौ गरीबन का बांट दीन गे हवै। अबै साड़ी, कम्बल आवैं का हवै। दस दिन मा तौ विकलांग विधवा, वृद्धा मड़इन का जेहिकर नाम बी.पी.एल सूची मा हवै। उनका दीन जई।