राशन कार्ड है, राशन नहीं, महोबा जिले के भैसारी गांव में

जिला महोबा, गांव भौसारी के आदमी बोहतई परेशान हे राशन कार्ड होबे बाद भी पांच छह महिना से राशन नइ मिलो। आदमियन ने बताई के इते को बोहतई बुरो हाल। हे केऊ आदमियन ने शिकायत भी करी लेकिन बात आगे नइ बढ़ी और कोटेदार से लड़ाई भी भई।जिला महोबा, गांव भौसारी भौसारी गांव के आदमी बोहतई परेशान हे राशन कार्ड होबे बाद भी पांच छह महिना से राशन नइ मिलो। आदमियन ने बताई के इते को बोहतई बुरो हाल। हे केऊ आदमियन ने शिकायत भी करी लेकिन बात आगे नइ बढ़ी और कोटेदार से लड़ाई भी भई। इदरिसन ने बताई के हमें  राशन नइ मिल रओ। एक साल हो गयी राशन कार्ड को बने। पहले छह महीना मिलो अब तीन चार महिना से बंद कर दओ। ज्ञान कुवर ने बताई के जब मर्जी होत तो देत नइ तो भगा देत। हमाओ राशन कार्ड बहुत पहले बनो तो सबने जमा करे ते सो हमने जमा कर दओ तो। अब कोटेदार कत  तुमाओ राशनकार्ड आओ ही नइया किते से देबे। कुरौरा में जमा करो तो उते जात सो बे कत के हमनो नइया। हसीना ने बताई के हमे तो कबहु नइ मिलो बूढ़े डुकरा डुकरिया  हे का खाबे मजदूरी कर नइ सकत। राम किशन लाल कोटेदार ने बताई के तीन महीना से राशनकार्ड कट गये तीस आदमियन के। राम प्रभुषण पूर्ति निरीक्षक ने बताई के ए पी एल कार्ड पे तेल नइ  मिलत और जो अपात्र आदमियन के हते उन पे भी गेंहू चावल नइ मिलत।

रिपोर्टर- सरोज सैनी  

19/06/2017 को प्रकाशित