राशन कार्ड खातिर परेशान

बिन राशन कार्ड रूकत मड़ई के काम
बिन राशन कार्ड रूकत मड़ई के काम

जिला बांदा, ब्लाक बबेरू, गांव निभौर। हेंया के इन्द्र कुमार शिवबरन, शान्ती इं सबै मड़ई दस साल से राशन कार्ड खातिर दिक्कत है। प्रधान से कहत है, तौ नहीं सुनत आय।
शान्ती कहिस कि बिना राशन काडऱ् के कोटेदार तेल तौ हमका देत है पै गल्ला नहीं मिलत आय। अगर हम लोगन का कतौ बैक, अस्पताल अउर स्कूल मा बच्चन के वजीफा जइसे का कउनौ काम होत है, तौ राशन कार्ड मांगा जात है।
आशा कहिस कि 6 महीना पहिले राशन कार्ड खातिर सर्वे भा रहै। वहिमा भी शासन से रोक लाग है। शिवबरन का कहब है कि जो राशन कार्ड बन जाय तौ खाय खातिर गल्ला कोटा मा मिल जाये मजदूरी भी नहीं लागत कि खर्चा चलै। यहिसे परदेश कमाय जाये का परत है।
प्रधान गोरेलाल कहिस की राशन कार्ड चुनाव के बाद बनिहें काहे से सर्वे होई गा है।