यमन में संघर्ष, हज़़ारों मरे

दुनिया के पश्चिमी छोर में स्थित देशों में से एक यमन देश में साल 2011 से लगातार सत्ता संघर्ष चल रहा है। संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ) द्वारा 30 अप्रैल को जारी रिपोर्ट के अनुसार इस संघर्ष में पिछले हफ्त में बासठ बच्चे मारे गए हैं। तीस घायल हैं। इसके अलावा हज़ारों लोगों की जानें जा चुकी हैं। इतना ही नहीं इस रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि संघर्ष के लंबे समय तक चलने के कारण बच्चों में कुपोषण का स्तर बढ़ता जा रहा है।
क्यों चल रहा है संघर्ष?
2011 में यहां के राष्ट्रपति अली अब्दुल्ला सालेह को सरकार विरोधी प्रदर्शनों के बाद अपना पद छोड़ना पड़ा था। तभी से लगातार संघर्ष चल रहा है। इसमें से एक गुट अब्दुल्ला का समर्थक है। दूसरा गुट अल्पसंख्यक हौथी शिया जैदी समुदाय का है। यह समुदाय यमन के सना प्रांत को हौथियों का प्रांत घोषित करने की मांग कर रहा है। यह लोग सना में अपने समुदाय की ही सरकार और प्रशासन चाहते हैं।