मुकदमा लड़त, पै नियाव नहीं मिलै

kachahri karwiजिला चित्रकूट, ब्लाक पहाड़ी, गांव नोनार। हिंया के ललिता का आरोप हवै कि मनसवा रामबाबू 4 दिसम्बर 2013 का मारपीट कइके घर से निकार दिहिस रहै। तबहिने से मोरे मइके वालेन के खिलाफ मनसवा मुकदमा लगा दिहिस।

ललिता का कहब हवै कि मोर शादी रामनगर ब्लाक मा रहैं वाले रामबाबू के साथै पन्द्रह साल पहिले भे रहै। मनसवा रोजै लड़ाई करत रहै। 4 दिसंबर 2013 का रात मा आठ बजे खूबै मारिस। यहिके बाद घर से निकार दिहिस रहै। या कारन से अपने मइके वालेन का फोन कइके बोलायेंव। मइके वाले आय तौ मनसवा उनके खिलाफ उल्टा मुकदमा लगा दिहिस कि मोरे घर मा डकैती डारे आय हवंै। मोरे तीन बच्चा हवैं। मुकदमा का फैसला 19 मार्च 2015 का रहै, पै वकील अनशन मा बइठ हवैं। यहै मुकदमा के तारीख बढ़ा के 29 अप्रैल होइगे हवै।

मनसवा रामबाबू का कहब हवै कि मैं वहिके ऊपर मुकदमा नहीं लगाये हौं। ललिता खुदै मोरे ऊपर मुकदमा लगा दिहिस हवै। यहै से अब मैं वहिका अपने साथै न रखिहौं।

कर्वी कचहरी का वकील कहिस कि घरेलू हिंसा अउर डकैती के तहत रामबाबू के खिालाफ मुकदमा लाग हवै। 29 अप्रैल का फैसला होइ।