मातृत्व लाभ योजना अब एक बच्चे तक सीमित

साभार: अनिला कुमारी चौधरी/फ्लिकर

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने मातृत्व लाभ कार्यक्रम को मंजूरी दे दी। इस कार्यक्रम के तहत बच्चे को स्तनपान कराने वाली मां को 6000 रूपये दिये जायेंगे, लेकिन यह योजना अब सिर्फ पहली संतान के लिये ही होगी।

दिसम्बर में जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित करते हुए, अपनी एक घोषणा में ये कहा था कि मात्रत्व स्वास्थय सरकार के लिए एक बहुत बड़ा मुद्दा है, और उसके तहत ही इस योजना में दो बच्चों के लिए ये लाभ जारी किया जायेगा।

इस शानदार घोषणा के बाद, कुछ महीनो में ही इस योजना में पहले बजट की कमी की बात सामने आई, और अब इसे दो बच्चों से हटाकर एक बच्चे तक सीमित करा दिया गया है।   

सूत्रों के अनुसार, मां को शुरू में गर्भावस्था के पंजीकरण पर 1000 रूपये मिलेंगे और इसके बाद पहले प्रसव पूर्व जांच के बाद 2000 रूपये और बच्चे के जन्म के पंजीकरण के बाद 2000 रूपये मिलेंगे।

सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार पात्र लाभार्थियों को संस्थागत प्रसव के बाद शेष नकद राशि वर्तमान कार्यक्रमों के अंतर्गत मातृत्व लाभ के मान्य नियमों के अनुरूप दी जाएगी। औसतन गर्भवती महिला को 6000 रूपए मिलेंगे।