महोबा के किसानन की गुहार

26-02-15 Mahoba - Mahila kisaan (old photo) for webमहोबा जिला ई बेमौसम की बारिस ने किसानन खा हिला के धर दओ हे। काय से कि पिछले साल के ओलावृृष्टि के घाव नई भर पाये हे ओर इ साल खेत मे परी फसल सब सड़ गई हे।

गहरा गांव के शोभासिंह, बरदानी, हुकम सिंह, शिवनन्दन ओर नत्थू सिंह ने बताओ कि पूरी फसल बरबाद हो गई हे। उखरो मटर खेत मे जाम गओ हे। जिससे परिवार के खाने के लिये भी मुश्किल परहे। हम लोग बैंक से कर्जा लेके खेती करत हे। अब कर्जा किते से भरहें। अगर न भरहें तो बैंक से नोटिस पोहोच जात हे।
ब्लाक जैतपुर के किसान रामकिशोर ओर रामऔतार कहत हे कि पेहले तो बारिस नई भई। ऊखे बाद भी हमने खेती करी की परिवार भूखन तो न मरहे, पे सब बरबाद हो गओ हे। पूरे जिले के आदमी आपनी फसल खा लेके परेशान हे आय दिन किसान डी.एस.डी. खा ज्ञापन देत हे।
सोचो का जा लाभ मिलहे किसानन खा काय से पिछली साल भई ओलावृष्टि को मुआवजा आज तक नई मिलो हे।

महोबा एस.डी.एम. प्रबुद्ध कुमार ओर कुलपहाड़ एस.डीम.एम. रिजवान मोहम्मद ने बताओ कि हमने बारिस में जोन फसल पानी से बरबाद भई हे। ऊखे लाने हम लेखपालन खा भेज के सर्वे कराउत हे ओर लिस्ट भी बना के भेज दई हे। महोबा में पचास हजार रूपइया भी आ गओ हे। जोन किसान की फसल पचास प्रतिषत से ज्यादा खराब हे तो ऊ किसान खा मटर, चना ओर मसूर मुआवजा दओ जेहे।