महुआ का मौसम

17-04-14 Mano - Mahua 217-04-14 Mano - Karvi Mahua 1 edउत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के बुंदेलखंड इलाके में साल के इस समय महुआ के पेड़ों पर पीले पीले फूल सज जाते हैं। चित्रकूट जिले के बोझ गांव मजरा महावीर का पुरवा की सकुना ने बताया कि यहां लोग कई पीढ़ियों से महुआ बीनते आ रहे हैं।
महुआ पका कर भी खाया जाता है और उसका रस निकाल कर पूआ और बेसन की लपसी भी बनाई जाती है। महुआ सूखने पर बरसात में लोग अरहर की दाल के साथ बनाते हैं। महुआ से दवा और दारू बनाई जाती है। हुआ के फल गुलैदा से भी सब्जी और अचार बनता है। उसके पत्तों से दोना और पत्तरी भी बनाई जाती है।
एक दिन में सकुना का पूरा परिवार पांच से छह किलो महुआ बीन लेता है। वे बताती है कि इस साल महुआ बहुत कम हुआ है इसलिए पेड़ के नीचे बैठकर एक-एक महुआ बीनते लोग नज़र आते हैं।