महीना खत्म नई मिलो लाभ

Upgovt-logoबुन्देलखण्ड गरीब के लाने केन्द्र सरकार ओर राज्य सरकार चाहे जित्ती योजना लगू कर दये। कोनऊ भी योजना पूरी तरह से सफल नई हो पाउत हे। हम बात करत हे समाजवादी सूखा राहत पैकिट की? 31 मार्च को उत्तर प्रदेश के मुखिया अखिलेश यादव ने सूखा से निपटे ओर गरीब आदमी भूखो न सोय ईखो लाने खाद्य समा्रगी बांटी हती। पे पूरो महीना गुजरे के बाद भी अभे जिला में लगभग पचीस प्रतिशत गांव बचे हे जिते आदमी राशन खे लाने भटकत हे। ई योजना को लाभ ज्यादातर गरीबन के मुह से छीनो जात हे। ईखो ताजा उदाहरण कबरई ब्लाक महिला ओर लेखपाल के बीच की लड़ाई साबित होत हे। काय से लेखपाल ऊ महिला खा आपात्र बताउत हे।
सवाल जा उठत हे की अगर महिला आपात्र हे तो ऊखा अन्तोदय राशनकार्ड कीने ओर काय बनाओ हे। का ईखी जांच पेहले नई होत हे। पेहले सरकारी कर्मचारियन खा रूपइया की कमी होत हे जा अपनी दबंगई दिखाउत हे। आखिर इखी जांच करें की जिम्मेंदारी कीखी आये। अगर हर महीना सब अधिकारी राहत पैकिट बांटे में लगे रेहे तो बाकी काम कोन देखहे। अगर ईखे बारे में अधिकारी से बात करे तो सीधे बजट न होंय की बात करत हे। का राज्य सरकार लगू करें खा बस बजट भेजत हे। पूरे लाभार्थी खे समय से देय के लाने नईं।