महिला फोटोग्राफरों की कुछ खास तस्वीरें

वागाह बार्डर में गश्त करती सीमा सुरक्षा बल की पहली महिला टुकड़ी
वागाह बार्डर में गश्त करती सीमा सुरक्षा बल की पहली महिला टुकड़ी

पिछले चैदह सालों से मीडिया में बतौर फोटोग्राफर काम कर रही रेनुका पुरी मौजूदा समय में इंडियन एक्सप्रेस के लिए काम कर रहीं हैं। इन्होंने यह तस्वीर उस वक्त ली जब पहली बार बीएसएफ में महिलाओं की भर्ती की गई।

 

Jungal group
गोरखपुर के एक गांव वालों ने अपनी हिफाजत के लिए खुद बनाई सेना, जिसे जंगल पार्टी का नाम दिया।

तीस सालों से फोटोग्राफी कर रही सिप्रा दास मौजूदा समय में इंडिया टुडे के लिए काम कर रही हैं। कारगिल युद्ध पर भी फोटो लाई हंै। अंधे लोगों पर फोटो आधारित ‘अ लाईट विदिन’ शीर्षक से एक किताब भी इन्होंने लिखी है।

 

 

गुजरात के भुज में 2001 में आए भूकंप का असर दिखाती एक तस्वीर
गुजरात के भुज में 2001 में आए भूकंप का असर दिखाती एक तस्वीर

करीब पच्चीस सालों से फोटोग्राफी कर रही सर्वेश ने अलग अलग अलग जगहों विषयों पर काम किया है। मौजूदा समय में दैनिक हिंदुस्तान के लिए काम कर रही हैं।