महिला पत्रकारों की कलम से – स्कूल में खाना बनाने वालों की मांगें

अब हर हफ्ते खबर लहरिया में पढ़ें महिला पत्रकारों की कुछ खास खबरें। राजनीति, विकास, संस्कृति, खेल आदि की ये खबरें देश के कोने-कोने से, छोटे-बड़े शहरों और अलग-अलग गांवों से हैं।
इस हफ्ते, उत्तर बिहार के सीतामढ़ी जिले से पढ़ें खबर लहरिया रिपोर्टर की ये खबर।

उत्तर बिहार के सीतामढ़ी और शिवहर जिलों में मध्याहन भोजन बनाने वाली रसोइया धरना प्रदर्शन कर रही हैं। इनकी मांग है कि इनका वेतन बढ़ाया जाए और इन्हें भी मातृ अवकाश मिले, इनका बीमा हो। इसी मांग को लेकर 14 फरवरी 2015 को शिवहर कलेक्ट्रेट के गेट पर धरना प्रदर्शन किया गया।
शिवहर जिला के तरियानी प्रखण्ड के रसोइया सुशीला देवी, डुमरी कटसरी प्रखण्ड की रसोइया रीता देवी, शिवहर प्रखण्ड की रसोइया महवा देवी का कहना है कि हम सब हर रोज खाना बनाते हैं लेकिन हम लोगों को एक हज़ार रुपए मानदेय मिलता है, तो इतने रुपए से क्या होगा? हमारी मांग है कि हमारा वेतन बढ़ाकर आठ हजार किया जाए। हमारा बीमा किया जाए और और तीन महीने का मातृ अवकाश मिले।
शिवहर जिला के तरियानी प्रखंड के प्रधानाध्यापक अच्छेलाल राम का कहना है कि राज्य में कुल सात लाख रसोइया हंै, जिसमें लगभग एक परिवार से पांच वोट सरकार को मिलते हैं। तो अगर हिसाब लगाएं तो करीब पैंतिस लाख वोट इन परिवारों से मिलता है।
ऐसे में सरकार को चाहिए कि इनकी मांगों पर भी ध्यान दे। क्योंकि सरकार बनाने में इनकी भी महत्वपूर्ण भूमिका है।