मरम्मत नहीं दोबारा बनें सड़क

sadakचित्रकूट। उत्तर प्रदेश के जिले चित्रकूट में अब तक दो बार मुख्यमंत्री अखिलेश यादव आ चुके हैं। दोनों ही बार खस्ताहाल सड़कों की हालत छिपाने के लिए गड्ढों में मिट्टी और गिट्टी भरवा दी गई। अब इलाहाबाद रोड पर पड़ने वाले बांदा से खोह गांव तक करीब पच्चासी किलोमीटर सड़क की मरम्मत के लिए से बजट जारी किया गया है। लेकिन लोगों का कहना है कि सड़क की मरम्मत नहीं इसे दोबारा बननी चाहिए।
पी.डब्लू.डी विभाग के सहायक अभियन्ता ने बताया कि बांदा से खोह गांव की सड़क के लिए बांदा के लोक निर्माण विभाग ने बजट जारी किया है। दूसरे गांवों के लिए अभी बजट आना बाकी है। कर्वी के राम, अवधेष और काजल का कहना है कि बांदा से कर्वी तक इलाहाबाद रोड बहुत खराब है। विभाग उसी रोड को उधेड़ कर बनवा रहे है।
यहां भी सड़कें खस्ताहाल
इसी तरह ब्लाक मऊ गांव डोड़िया माफी की सड़क भी खस्ताहाल है।   ब्लाक मानिकपुर के इटवा डुड़ैला गांव की लगभग चालीस किलोमीटर सड़क खराब है। सड़क से टिकरिया डोड़ामाफी और मारकुण्डी समेत पांच गांव के लोग निकलते हैं।