मनसवा मार के घर से निकारिस

शाहजहां आपन लड़का  साथै
शाहजहां आपन लड़का साथै

जिला बांदा, ब्लाक महुआ, गांव पिथौराबाद अउर गांव महुआ। पिथौराबाद के के जुल्लो बताइस कि वहिके बिटिया का ससुराल तिंदवारी ब्लाक का गांव मदनपुर आय। उंई तीन साल से लेवावै नहीं आवत आय अउर न ही खाना खर्चा देत आय। आपन बिटिया के हक के लड़ाई लड़ै खातिर वहिके पास रूपिया निहाय। मनसवा चैनू बक्स का टी.बी. के बीमारी है। यतना रूपिया निहाय कि किराया भाड़ा लगा के बांदा जिला अस्पताल से दवाई करा सकै। यहिनतान महुआ के गेंदिया का मइका नरैनी ब्लाक का गांव मूड़ी आय। वहिका मनसवा घर मा नहीं रहै देत। यहिसे परेशान होइके वा 14 जनवरी 2014 का खुरहण्ड चैकी मा दरखास दिहिस है।
जुल्लो के बिटिया शाहजहां बताइस-“कम दहेज मिलै अउर पचास हजार रूपिया नगद अउर मोटर साइकिल के मांग मइके वालेन से न करैं मा मोरे साथै मनसवा मोहम्मद सरताज बहुतै मारपीट करत रहै। तीन महीना का बच्चा पेट मा रहै वा समय मनसवा मोहिका मारपीट के घर से निकार दिहिस। दुई दरकी पंचायत करवा के लेवा गे रहैं। कहत रहैं कि मारपीट न करब, पै लेवा जाय के बाद पंचायत मा कही बातै सब भूला के वहिनतान मारपीट करब शुरू कई देत रहैं। अब मैं तीन साल से बाप महतारी के साथै रहत हौं। आपन अउर आपन दुई साल के बच्चा का पेट पालत हौं।”
शाहजहां का मनसवा सरताज कहत है कि मैं चाहत हौं कि शाहजहां हेंया आ के रहै। वहिका कोऊ नहीं निकारे आय।
जिला बांदा, ब्लाक महुआ, गांव महुआ। हेंया के गेंदिया का माइका नरैनी ब्लाक का गांव मूड़ी आय। वहिका मनसवा घर मा नहीं रहैं देत आय। यहिसे परेशान होइके वा 14 जनवरी 2014 का खुरहण्ड चैकी मा दरखास दिहिस है।
गंेदिया बतावत है कि मोर शादी पन्द्रह साल पहिले महुआ गांव मा नत्थू साथै भे रहै। तीन साल होइगे मनसवा मारत पीटत है अउर घर मा नहीं रहै देत आय। यहिसे आठ महीना होइगे मैं आपन दूनौ बच्चा लीने मइके मा रहत हौं। कहां तक महतारी बाप मोर अउर बच्चन का खर्च चलावैं। यहिसे मैं मनसवा के खिलाफ दरखास दीन हौं। न मोहिका घर मा रहैं देत न हीं खाना खर्चा दे। मनसवा नत्थू कहत है वा मोर कहा नहीं लेत। या मारै मैं न रखिहौं।
खुरहण्ड चैकी दरोगा मथुरा चैबे कहत है कि दूनौ का बुला के समझौता करा दीन जई। अगर न मानी तौ कारवाही कीन जईं।