ब्रिक्स बैंक बनाने का फैसला

brics
रूस के प्रधानमंत्री ब्लादीमिर पुतिन, भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, ब्राजील की राष्ट्रपति डील्मा रुसेफ, चीन के राष्ट्रपति जी शिनपिंग साउथ अफ्रीका के राष्ट्रपति जैकब जुमा

फोर्तलेज, ब्राजील। ब्राजील देश के फोर्तलेज में चल रहे ब्रिक्स यानी पांच देशों ब्राजील, रूस, इंडिया, चीन और साउथ अफ्रीका के समूह के दो दिनों के सम्मेलन में एक ब्रिक्स विकास बैंक बनाने का फैसला लिया गया है। इस बैंक को बनाने का उद्देश्य एक वैश्विक आर्थिक ढांचे को बनाना और उसे लगातार विकसित करना है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इस बैंक में सदस्य देशों की बराबर साझेदारी होगी। बैंक न सिर्फ ब्रिक्स देशों ही नहीं बल्कि दूसरी उभरती अर्थव्यवस्थाओं और विकासशील देशों में आधारभूत ढांचे के लिए कर्ज देंगे। यह बैंक देशों को बिजली, पानी और सड़क जैसी परियोजनाओं के लिए कर्ज देगा। इस बैंक में सभी पांच सदस्य देश अपनी अपनी बचत को जमा करेंगे। इसकी शुरुआत 100 अरब डालर से होगी। यह बैंक चीन में होगा। हालांकि अभी भी विश्व बैंक और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष जैसी वैश्विक आर्थिक संस्थाएं हैं। लेकिन इनको लेकर हमेशा शिकायत रही है कि इसमें अमीर देशों का ज़्यादा प्रभाव रहता है।