ब्यान में करू बदलाव

Mulayam_B_04062013
मुलायम सिंह

चुनाव के लेके सारा पार्टी एक दुसरा पर आरोप लगा रहल छथिन। कोई मुस्लिम के कान भर रहल छथिन त कोई बालात्कारी के भी समर्थन करे  के बात कहई छथिन। ऐई आरोप में उ भूल जाई छथिन कि उनकर बात के मतलब की हई। अई से केतना के दिल में चोट भी लगई छई।
जहां मुलायम सिंह के कहना हई कि बलात्कार के लेल फांसी के सजा न मिले के चाही। शुरू में लड़की-लड़का दोस्त रहई छथिन बाद में मतभेद होये के कारण उनका उपर केश कर देई छथिन। लेकिन जेई तरह से लड़की के बालात्कार कयल जाई छई चाहे उ सामूहिक हो या अप्राकृतिक उनकर स्थिति अईसन होई छई या उ इलाज के समय भर जाई छथिन या उनकर मानसिक स्थिति खराब हो जाई छई या जे जिन्दा रहई छथिन उनका लोग ताना देके लोग मरे पर मजबूर कर देई छथिन। अईसन स्थिति में लावे वाला लोग के त मैत से भी बतर सजा मिले के चाही।
राजनिति के लेल लोग के जिन्दगी, औरत के इज्जत के दाव पर लगायल जा रहल हई। चुनाव के माहैल में कुछ भी अनाप-सनाप कहे के उनका कोई अधिकार न हई। ऐही कारण नेता के गाली अउर थप्पर के सामना करे पर रहल हई। आइ लोग नेता या राजनीती से गंदा माहौल केकरो न हई। इहो कहें पर मजबुर छथिन। जेकरा लेल हिन्दु, मुस्लिम, मर्द अउर औरत सब एक रहे के चाही उ आज ही लोग के बांट रहल छथिन। इहे लोग चलईथिन सरकार