बेगैर मशीन अउर बिजली का हवै ए.टी.एम

बैंक से लउटे मड़ई
बैंक से लउटे मड़ई

जिला चित्रकूट, ब्लाक कर्वी, कस्बा सीतापुर अउर रामघाट। हिंया भारतीय स्टेट बैंक का ए.टी.एम नहीं चालू हवै। या कारन बैंक बन्द होइ जाये से मड़इन का बहुतै समस्या होत हवै। या समस्या से हजारन मड़ई जूझत हवैं।
सीतापुर के रामस्वरूप सोनी का कहब हवै कि सीतापुर मा पंजाब नेशनल बैंक का ए.टी.एम हवै, पै वहिमा भीड़ लाग रहत हवै। यहै से सोचित हन कि अगर भारतीय स्टेट बैंक का ए.टी.एम भी चालू होइ जाये तौ समस्या न होइ। काहे से कि चित्रकूट एक तीर्थ स्थल हवै। हिंया देश विदेश से मड़ई घूमैं खातिर आवत हवै। उनका समस्या होत हवै। भरतीय स्टेट बैंक का ए.टी.एम आफिस तौ हवै, पै वहिमा बिजली अउर ए.टी.एम मशीन नहीं हवै। या कारन वा बंद परा हवै।
रामघाट के पप्पू अउर कान्ती। उनकर कहब हवै कि अगर दुइ ए.टी.एम होइ जाये तौ नींक रही। भारतीय स्टेट बैंक का ए.टी.एम चलब जरूरी हवै। चित्रकूट भारतीय स्टेट बैंक के प्रबन्धक युगुल किशोर का कहब हवै कि यहिके साथै बिजली कनेक्शन के समस्या हवै। सरकार कइती से मशीन अई तबै चालू होइ।
ब्लाक मानिकपुर। इहालाबाद यू.पी. ग्रामीण बैंक का सरवर डाउन होय से रोज के सैकड़न गांव के लोग चक्कर लगा के भूखे पियासे लउट के घर चले जात हवैं। या समस्या 20 अप्रैल से 24 अप्रैल 2014 तक रहै।
सकरौंहा गांव के राजकुमारी, गिदुरहा गांव के राजन सवरिया समेत दस लोगन का कहब हवै कि दूर दराज के गांव से किराया लगा के भूखे मजूरी का रूपिया लें पियासे बैंक आवत हवैं। वा रूपिया भी नहीं निकर पावत पूर दिन बीत जात हवै रूपिया नहीं निकर पवात आय। गरीब मड़ई येत्ता रूपिया भी नहीं हवै कि कुछौ बाजार से नाश्ता पानी कर लेइ। पता नहीं कबै तक मा बैंक का सरवर नींक होइ। इलाहाबाद यू.पी.ग्रामीण बैंक के क्षेत्रीय अधिकारी राणा सिंह का कहब हवै कि हमरे बस का होत तौ जनता घर न लउट।े सरवर डाउन तौ सबै बैंक मा रहत हवै। या इन्टरनेट के कमी से होत हवै।