बिजली के समस्या बनगे आम समस्या

ओम प्रकाश
ओम प्रकाश

जिला चित्रकूट, ब्लाक कर्वी, कस्बा सीतापुर। हिंया बिजली कटौती एक बरस से बहुतै ज्यादा होत हवै। या कारन एक हजारन मड़ई या समस्या का झेलत हवै। बिजली कटौती खतम करैं खातिर बिजली विभाग मा कहा जात हवै, पै कउनौ फायदा नहीं होत हवै।
कस्बा के ओम प्रकाश अउर बालेश्वर कहिन कि या समय बच्चन के परीक्षा होय का हवै। बिजली न रहै से बच्चन के पढ़ाई नहीं होइ पावत हवै। बिजली आवैं जाये का कउनौ समय नहीं रहत आय। रात दिन बिजली आंख मिचैली करत हवै। जाड़ा का समय हवै तबहूं मच्छर लागत हवैं। अगर बिजली रहै तौ पंखा चला सकित हन। पता नहीं कि या बिजली के समस्या कबहूं खतम होइ कि नहीं। चाहे जउन सरकार होय। वा भरोसा बस दइ देत हवै कि बिजली बराबर रही।
कर्वी बिजली विभाग के बाबू विजय कहिन कि बिजली बराबर दीन जात हवै। मड़ई यहिनतान कहत हवैं।
जिला चित्रकूट, ब्लाक मऊ, कस्बा लालतारोड। हिंया लगभग बीस बरस पुरान बिजली का खम्भा लाग रहै। वा दुइ महीना से बीच से टेढ़ा होइगे हवै। वा खम्भा कत्तौ भी गिर सकत हवै। या कारन दुर्घटना होय का डेर बना रहत हवै। यहिके दरखास बिजली विभाग मा 28 अक्टूबर 2013 का दीन गा, पै कउनौ ध्यान नहीं दीन गा आय।
मऊ बिजली विभाग के सरकारी लाइन मैन शिवप्रसाद का कहब हवै कि अबै तक या बात पता नहीं रहै कि बिजली का खम्भा बीच से टेढ़ा होइगा हवै। अब पता लाग हवै तौ दूसर खम्भा लगावा जई।
कस्बा के लालमन त्रिपाठी, मोती बाबू अउर रमाशंकर पटेल के साथै समस्या बतावैं मा पांच मड़ई अउर शामिल रहैं। उंई कहिन कि हमरे घर के लगे बिजली का खम्भा लाग हवै। वा बीच से टेढ़ा होइगा हवै। अगर यहिनतान रही तौ घरन मा गिर सकत हवै अउर करंट लागै का डेर भी हवै। सरकार कइती से बिजली विभाग वाले खम्भा लगावत हवैं, पै दुबारा पलट के नहीं देखत आय कि कइयौ बरस बीत गे हवैं तौ वा खम्भा का, का हाल हवै। खम्भा दूसर लाग जाये तौ हमार चिंता खतम होइ जाये।