बिजली उपभोक्ता कै बढ़ी चिन्ता

bijli 1फैजाबाद हुवय चाहे अम्बेडकर नगर बिजली कै हर जगह मारा मारी रहाथै। अउर अगर ट्रंासफार्मर जरि जाथै तौ चारौ तरफ से मनईन कै परेषानी बढि़ जाथै। न खेती कै काम अउर न पढ़ाई लिखाई होवत हे, हर तरह से काम ठप्प परि जाथै।
गंावन मा बिजली तौ लगाय दीन जाथै। लकिन कम बोल्टेज कै ट्रंासफार्मर रखै से जल्दी -जल्दी जलै कै डर बना रहाथै। अगर एक बार ट्रंासफार्मर जलि जाथै तौ जल्दी बनत नाय। जेसे बिजली उपभोक्ता का काफी दिक्कत उठावै का पराथै। काहे से घर मा बहुत काम रहाथै जवन बिजली बिना सम्भव नाय बाय। खेती के सिंचाई के काम मा बाधा हुआथै। उधर गेदहरन कै बोर्ड परीक्षा चलत बाय। जेसे पढ़ाई लिखाई मा काफी परेषानी उठावै का पराथै। अम्बेडकर नगर मा अलग अलग जगह पै तीन ट्रांसफर जरि जाए से गेदहरन के पढ़ाई मा दिक्कत हुवत बाय। बिजली बिना आधा से ज्यादा काम नाय होय पावत।
बार-बार ट्रंासफार्मर कै जलब कम बोल्टेज अउर ज्यादा कनेक्षन धारक कै परिणाम बतावाथै। बिजली विभाग वाले का चाही कि जउने प्रकार से बिजली उपभोक्ता रहैं वही प्रकार से ट्रंासफार्मर लगवावै? बार-बार ट्रंासफार्मर जलै से विभाग अउर बिजली उपभोक्ता का भी काफी दिक्कत झेलै का पराथै। अगर यही तरह बार-बार ट्रंासफार्मर जले तौ बिजली लेहे कवन फायदा? बिल तौ विभाग वाले कै बराबर बनाथै चाहे बिजली आवै चाहे नाय? हिंआ तक कि बिना कनेक्षन कै भी बिजली कै बिल पहुंच जाथै?