बारिस में चौपट केले की फसल

Photo-0205....
हाजीपुर के क्षेत्र केले

जिला वैसाली। हाजीपुर का क्षेत्र केले की फसल के लिये मशहूर है। लेकिन यह क्षेत्र गंगा नदी के किनारे बसा हुआ है। जिस कारण से यहां हमेशा बाढ़ की स्थिति बनी रहती है। इस साल तेज बारिस की वजह से आई बाढ़ में आधे से जादा फसल़ बरबाद हो गई।
साहपुर के किसान षंकर भगत, योगेष्वर राय, दिनेष राय ने बताया कि हम लोग यहां पर लगभग बीस साल से केले की खेती करते हैं। हमारा परिवार इसी से चलता है। अक्सर हमे बाढ़ का दंष झेलना पड़ता है। इतने केले के पेड़ गिर गये हैं कि उसे साफ करवाने में भी मजदूर लगाना पड़ रहा हैं। तेरसीया के हरिन्द्र राय, सुरेष राय, उमानाथ राय का कहना कि इस साल लगभग सौ बीघा खेत दह गया। ये नगदी फसल है, जिससे हाथों हाथ पैसा मिलता है। मगर इस साल तो बच्चे भूखे मरेंगे।
केला मंडी के ठेकेदार विनोद कुमार सिंह ने बताया कि यहां के बिन्दुपुर और हाजीपुर प्र्रखण्ड के लगभग चालीस पंचायत में इसकी खेती होती है। यहां सबसे ज्यादा छठ पूजा, दशहरा और षादियों में इसकी खपत होती है। इस मौसम में इसकी अच्छी कीमत मिल जाती है। मैं खुद आठ एकड़ में केले की खेती करता हूं। इस साल हमें लाखो का नुकसान हुआ है। अब देखते हैं, सरकार क्या करती हैं?
कृषि एवं उद्यान विभाग के पदाधिकारी ओम प्रकाष मिश्र ने बताया कि यहां साढ़े चार हजार हेक्टेयर में केले की खेती होती है। बारिस की वजह से कितना नुकसान हुआ है ये पता लगाने के लिये सर्वे किया जा रहा हैं। उसके बाद अब आपदा प्रबंधंन विभाग से मुआवजा दिया जाएगा। अब कितना मिलेगा, ये हम नहीं बता सकते।