बाराबंकी के बुनकरों के साथ बानो फातिमा

लखनऊ की बानो फातिमा बाइस साल की है। 30 सितंबर को बानो को अमेरिका के न्यू यार्क शहर में एक विश्व स्तरीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया। ये सम्मान बाराबंकी जिले में बुनकरों के साथ काम करने के लिए बानो को दिया गया है।  बानो ने बताया कि लखनऊ के पास बाराबंकी जिले में बुनकरों और उनके परिवारों को सामाजिक और आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। गरीब बुनकरों के साथ इस भेदभाव को हटाने और उनकी दैनिक मज़दूरी में बढ़ोतरी के लिए बानो और उनकी बहन नबीला ने ‘वीवर्ज़ हट’ नाम से एक संगठन शुरू किया। बानो बाराबंकी के बरागांव गांव में बुनकरों के लिए नए बाज़ार ढूंढती हैं जिससे कि उनके बनाए गए सामान सही दामों में और ज़्यादा से ज़्यादा बिक सकें। उनके इस प्रयास को सम्मानित किया गया।