बाँदा जिले के सोशल ऑडिट सदस्यों का आरोप, नहीं हो रही है पुराने लोगों की भर्ती

जिला बांदा, कस्बा बांदा हेंया 8 मई का बहुतै ज्यादा संख्या मा सोशल आडिट कर्मचारी डी. एम. के सउहें धरना प्रदर्शन करिन है अउर ज्ञापन भी दिहिन हैं सोशल आडिट के कर्मचारी का कहब है कि 30 अप्रैल का लखनऊ से जउन ज्ञापन आवा वहिका रोका जाये काहे से 65 मड़इन का नौकरी मा लीन गा है जउन पुरान मड़ई न होय वहिसे भी ज्यादा पुरान मड़ई है पै उनका शामिल नहीं कीन गा आय अउर कर्मचारिन के उमर 45 से 65 साल कइ दीन गे है।
सोशल आंडिट क्वार्डिनेटर बैलेंद्र कुमार का कहब है कि जउन ज्ञापन लखनऊ से आवा वहिमा जिला से कुछौ लेना देना नहीं आय। सोशल आंडिट कर्मचारी शैलेन्द्र सिंह राव,राहुल निगम,अउर डेविड कुमार वर्मा का कहब है कि लखनऊ से जउन ज्ञापन आवा है वहिमा कर्मचारी के उमर 45 से 65 साल कइ दीन गे हैं। हमार मांग है कि कर्मचारी के उमर 18 से 45 साल के बीच होवे का चाही। हम मनरेगा और काम मा इंद्रा आवास के घर घर जा के जांच करे हन जेहिमा बहुतै कमी रहै। या समस्या का हम सामने लाये हन पै हमें नौकरी से हटा दीन गा है।
मुख्यमंत्री हमार नौकरी बहाल करें नहीं तौ हम परिवार समेत आत्महत्या कर लेबै। काहे से यहिके अलावा हमार लगे कुछौ उपाय नहीं आय। अब सरकार केन्द्र अउर राज्य मा अलग अलग होय का बहाना नहीं बना सकत आय। काहे से दूनौ जघा एक सरकार है। बांदा मा सोशल आडिट के 335 कर्मचारी अउर पूर उत्तर प्रदेश मा 45 हजार कर्मचारी है। सबै या ज्ञापन आवै के बाद परेशान है।

रिपोर्टर- गीता देवी

18/05/2017 को प्रकाशित