बलात्कार का केस दबावैं का आरोप

जिला बांदा, थाना गिरवां। हेंया के एक गांव मा 25 साल के औरत के साथ सामूहिक बलात्कार का मामला सउहें आवा है। परिवार वालेन का आरोप है कि घटना के दस दिन बाद गिरवां थाना म रपट लिखी गे है। पुलिस रूपिया के बल मा अपराधिन का गिरफ्तार नहीं करै।
औरत बताइस-“ 26 फरवरी का गांव के रामदुलारे, रामचन्द्र पप्पू अउर छोटेलाल सुबह दस बजे चारपाई मा बांध के तमन्चा के बल मा बलात्कार करिन रहैं। मोर पति का लाठी, डण्डा अउर बन्दूक के कुन्दा से मारिन हैं। बलात्कार के रपट करैं गिरवां थाना गयेन तौ होंआ थाना अध्यक्ष अनीता चैहान रपट नहीं लिखिस न मेडिकल जांच कराइस है।” पति कहिस कि दसन दिन तक हम थाना रपट लिखावैं खातिर दउरत रहेन, पुलिके चरौरी बिनती कीन तबै 10 मार्च का रपट लिखी गे। रपट लिखै के बाद बलात्कारी खुले आम घूमत हंै, अउर जान से मार के हमार लाश गायब करैं के धमकी देत हंै। 11 मार्च का मुख्यमंत्री, राष्ट्रीय महिला आयोग अउर मानव अधिकार आयोग का फैक्स भेज के कारवाही के मांग करे हन। थाना अध्यक्ष अनीता चैहान कहिस-“ रपट लिख गे है। धारा 376 लाग हैं। जांच मा मामला गलत पावा गा है।”
जबैकि औरत का पति कहिस कि या मामला मा पुलिस डाक्टरी जांच नहीं करवाइस तौ मामला कसत गलत पावा गा।
बांदा एस.पी. राकेश शंकर कहिन-“बलात्कार का मामला झूठ है। औरत के पति से बिपक्षिन के लड़ाई भे रहै। उनका फंसावैं खातिर या मामला बनावा गा है। दूनौ पक्ष के खिलाफ रपट लिखी गे है। वहिसे भी बांदा सौ मा सत्तर प्रतिशत बलात्कार के मामला झूठ पाये जात हैं।”