बयान देकर फंस गए राहुल

(फोटो साभार: विकिपीडिया)
(फोटो साभार: विकिपीडिया)

उत्तर प्रदेश के जिले मुजफ्फरनगर के दंगों के बारे में बोलकर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी फंस गए हैं। 24 अक्टूबर, 2013 को इंदौर की चुनावी रैली में उन्होंने कहा था कि मुजफ्फरनगर के दंगा पीड़ित युवकों से पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई लगातार संपर्क बनाए है। विरोध में 26 अक्टूबर को कानपुर की चीफ मेट्रोपोलिटिन मजिस्ट्रेट कोर्ट में मुकदमा दायर किया गया है। उधर, मुंबई की एक अदालत में भी इस मामले को लेकर अल्पसंख्यक समुदाय के एक व्यक्ति ने शिकायत की है।
कानपुर के ज्ञानेश मिश्रा और मोहम्मद इस्लामुद्दीन ने यह मुकदमा लगाया है। वहीं मुंबई की एक अदालत में यहां के सैयत अब्बाज ने अपनी शिकायत में कहा है कि वो और उनका समुदाय ऐसी अपमानजनक टिप्पणी से दुखी है। राहुल गांधी देश में सांप्रदायिक नफरत फैलाने का काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा है कि मैं मुस्लिम समुदाय से हूं और मुझे गैर मुस्लिमों और पुलिस ने इस बात को लेकर तंग किया कि क्या मेरे मेरे समुदाय के लोग आईएसआई के साथ संपर्क हैं या नहीं।