बच्चा कहिन, कसत करी पढ़ाई

ragauliजिला चित्रकूट, ब्लाक कर्वी, गांव रगौली। हिंया प्राथमिक स्कूल भाग दुइ सन् 1994 से बना हवै। स्कूल मा अबै तक बाउन्ड्री नहीं बनीं हवै। बाउन्ड्री बनवावैं खातिर बेसिक शिक्षा विभाग मा लिखित 29 मार्च का दीन गे, पै ध्याान नहीं दीन गा।
स्कूल मा पढ़ै वाले बच्चा कहिन कि बाउन्ड्री न बनी होय के कारन जानवर घुसत अउर मड़ई हैण्डपम्प से पानी भरत हवैं तौ भटर भटर कटर हवैं। स्कूल मा नींक से पढ़ नहीं पाइत हन। हमका खेलै का भी नहीं मिल पावत। अगर हैण्डपम्प मा पानी पियै जइत हन तौ हुंवा जल्दी पियै का पानी नहीं मिलत आय। गांव के मड़ई पानी भरत हवै ऊपर से हैण्डपम्प मा नहात हवैं। जानवर गोबर फइला देत हवैं।
स्कूल के हेडमास्टर शिवकुमार का कहब हवै कि स्कूल मा बाउन्ड्री बनवावैं खातिर बेसिक शिक्षा विभग मा कइयौ दरकी लिखित दरखास दीने हौं। अबै हाल मा ही अंतिम दरखास 29 मार्च का दीन गे, पे बाउन्ड्री नहीं बनी।
बेसिक शिक्षा अधिकारी वीरेन्द्र सिंह का कहब हवै कि बाउन्ड्री बनवावैं खातिर बजट अई तबै बाउन्ड्री बनी।